Electricity Crisis in India : बढ़ती गर्मी में आम जनता पर पड़ रही है दोहरी मार, बिजली कटौती के बीच 657 पैसेंजर ट्रेनों का संचालन रद्द।

0
95
Electricity Crisis in India
ELECTICITY CRISIS IN SOME STATES OF INDIA

देश में लगातार गर्मी बढ़ती जा रही है. बढती गर्मी जहां एक तरफ लोगों का बुरा हाल कर रही है तो वही दुसरी तरफ बिजली कटौती (Electricity Crisis in India) से भी लोग परेशान है. देश के करीब 13 राज्य बिजली कटौती की समस्या झेल रहे है. इन राज्यों में उत्तर प्रदेश, तमिलनाडु, राजस्थान, दिल्ली, महाराष्ट्र, आन्ध्र प्रदेश, गुजरात, पंजाब, झारखंड, हरियाणा आदि शामिल है.

यह भी पढ़े: Power Crisis In India : कोयले की कमी गर्मी में कर सकती है आपकी बत्ती गुल, 7 राज्यों में गहरा रहा है बिजली का संकट।

कोयले की कमी के चलते देश में बिजली कटौती (Electricity Crisis in India) की समस्या दिन प्रतिदिन बढती जा रही है. केन्द्र सरकार ने यूपी में बिजली आपूर्ति बाधित न हो इसके लिए 657 पैसेंजर ट्रेनों के संचालन को रद्द करने का फैसला लिया है. सरकार ने पैसेंजर ट्रेनों के रद्द करने के पीछे की वजह बताते हुए बताया कि हम चाहते है की थर्मल पावर स्टेशनों तक कोयले की सप्लाई कर रहे माल गाड़ियों को रास्ता आसानी से मिल सके और कोयला समय से पहुंच सके.

यह भी पढ़े: Prashant Kishor 34 की उम्र में यूएन की नौकरी छोड़ कैसे बने भारतीय राजनीति के चाणक्य ?

रूस – यूक्रेन युद्ध के कारण गैस की आपूर्ति बाधित युद्ध

केन्द्रिय कोयला मंत्री प्रहृाद जोशी ने देश में चल रही बिजली कटौती (Electricity Crisis in India) पर बयान देते हुए कहा कि रूस और यूक्रेन के बीच चल रहे युद्ध की वजह से रूस से गैस की आपूर्ती बाधित हो रही है. जोशी ने कहा की हमारे थर्मल पावर प्लांट के पास अभी 21 मिलियन टन कोयले का स्टॉक है, जिससे 10 दिनों का काम चल सकता है. उन्होने कहा कि कोल इंडिया के कुल स्टॉक को मिला कर देश में लगभग 30 लाख टन का स्टॉक बचा है. इतने स्टॉक से लगभग 70 से 80 दिनों तक बिजली की आपूर्ती की जा सकती है. जोशी के मुताबिक देश में मौजुदा हालात समान्य है.

Electricity Crisis in India
ELECTICITY CRISIS IN SOME STATES OF INDIA

यह भी पढ़े: Modi meeting with CM : पीएम ने की महंगाई पर चर्चा, तो केजरीवाल की अगड़ाई पर बवाल, जाने बैठक का पुरा लेखा जोखा।

Electricity Crisis in India के मुख्य कारण क्या है?

देश तेजी से बढ़ती गर्मी के कारण बिजली की मांग अचानक से बढ़ गई है. बिजली बढ़ती मांग (Electricity Crisis in India) के चलते कोयले की खपत बढ़ गई. केन्द्रिय ऊर्जा मंत्री आरके सिंह ने माना की देश में कोयले की कमी है. कोयले की कमी का कारण ऊर्जा मंत्री ने रूस – यूक्रेन युद्ध को बताया. वही झारखंड में कोल कंपनियों का बकाया पेंमेंट न देना भी देश में कोयला संकट का प्रमुख कारण माना जा रहा है.

यह भी पढ़े: Corona Virus In India : पीएम मोदी की बैठक हुई खत्म, मुख्यमंत्रियों को दिए सख्त निर्देश।