चक्रवाती तूफ़ान तौकते की वजह से गुजरात और केरल को हाईअलर्ट पर रखा गया।

0
243

देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी चक्रवाती तूफ़ान तौकते से होनी वाली आपदा से निपटने को लेकर चल रही है तैयारियों की समीक्षा के लिए बैठक करने वाले है।
बताते चले की खबरों के मुताबिक अरब सागर में दबाव बनने के कारण तटीय इलाकों में भयंकर चक्रवाती तूफ़ान आने का अनुमान लगाया गया है। मौसम विभाग ने इसकी चेतावनी भी जारी कर दिया है जिसको लेके प्रधानमंत्री मोदी बैठक करेंगे। सूत्रों के मुताबिक पीएम मोदी के साथ इस बैठक में राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (एनडीएमडी) के अधिकारी समेत केंद्र सरकार के मुख्य अधिकारी भी शामिल होंगे। आईएमडी की दी हुई चेतावनी के अनुसार 17 मई को अरब सागर में बन रहा दबाव भीषड़ चक्रवाती तूफ़ान में बदल स्काट है और 24 घण्टे में वो गुजरात के तट से टकराने की सम्भावना है। शनिवार रात तक यह भीषड़ तूफान में तब्दील हो सकता है। इस तूफ़ान में चलने वाली हवाओं की रफ़्तार करीब 150 से 160 किलोमीटर प्रति घंटे होने की उम्मीद है। और बीच में इन हवाओंकी रफ्तार 175 किलोमीटर प्रति घंटे भी हो सकती है। इस तूफ़ान को ध्यान में रखते हुये मौसम विभाग ने चेतावनी जारी करते हुए पश्चिमी तटीय राज्यों को अलर्ट पर रहने को कहा है,और 53 एनडीआरएफ दलों को राहत व बचाव कार्य के लिए भेज दिया गया है।
आपको ये बताना बेहद जरूरी है की इस तूफ़ान का नाम तौकते किसने रखा है और इसका क्या मतलब है। इस तूफ़ान का नाम म्यांमार ने रखा है और इस नाम का मतलब है छिपकली। तौकते इस साल भारत के तटीय इलाकों पर टकराने वाला पहला चक्रवाती तूफान होगा। ताजा खबरों के मुताबिक केरल में तेज बारिश होनी शुरू हो गयी है।