Kanpur Murder Case : दिल्ली का निर्भया जैसा कांड कानपुर में दोहराया गया, हैवानियत की सारी हदें पार।

0
6

Kanpur Murder Case : यह घटना कानपुर  में स्थित नर्वल के सकट बेहटा गांव की है। गांव में रहने वाले 10साल के बच्चे से इस कदर हैवानियत की गई कि सुनने वालों की रूह कांप जाए। मासूम बच्चा घर से बाहर खेलने के लिए गया था, उसे अगवा कर लिया गया और पहले उसकी आंख में 5 इंच लंबी कील ठोंकी गई, फिर उसके प्राइवेट पार्ट में डंडा डाला गया, उसके चेहरे पर जली हुई सिगरेट से निशान बनाए गए और फिर गला घोंटकर उस मासूम की हत्या कर दी गई। इसके अलावा मासूम के पूरे शरीर पर चोट और खरोंच के निशान भी हैं। मासूम दलित जात का है इसलिए इस घटना के कारण पूरे गांव में जातीय तनाव का माहौल बन गया है। बच्चे के शव की हालत देखकर गांव के सभी लोग कह रहे हैं कि बच्चे के साथ निर्भया जैसी दरिंदगी की गई है।

Kanpur Murder Case

Kanpur Murder Case  : 24घंटे बाद मिला शव।

Kanpur Murder Case  : राज मिस्त्री महेंद्र कोरी का 10साल का बच्चा 5वीं कक्षा में पढ़ता था। मासूम दोपहर को घर से बाहर टायर लेकर खेलने को निकला था। उसके बाद वह काफी समय तक घर नहीं लौटा। फिर 24घंटों के बाद दोपहर को घर से 400 मीटर की दूरी पर ही गांव के रामेंद्र मिश्रा के सरसों के खेत में उसका शव नग्न अवस्था में मिला।

Kanpur Murder Case

Kanpur Murder Case  : आरोपियों का पता लगाने में जुटी पुलिस।

Kanpur Murder Case  : पुलिस अधिकारियों के मुताबिक, इस हादसे में अभी तक 6संदिग्धों को हिरासत में ले लिया है और जांच-पड़ताल जारी है। एसपी आउटर अजीत कुमार सिन्हा का दावा है कि जल्द ही इस हादसे का खुलासा किया जाएगा। डॉक्टरों का पैनल आज दोपहर बाद मासूम बच्चे का पोस्टमॉर्टम करेगा। एसपी आउटर अजीत कुमार सिन्हा का कहना है कि जांच में चार टीमों को लगाया गया है। थाना प्रभारी के साथ ही सर्विलांस, क्राइम ब्रांच समेत चार टीम अलग-अलग एंगल से जांच करके हादसे का खुलासा करने में जुटीं हैं। इसके साथ ही सीओ सदर ऋषि केश यादव की निगरानी में हत्या के खुलासे का प्रयास किया जा रहा है, जिससे जल्द से जल्द हत्या का खुलासा हो सके। बता दें, कि अब तक इस हादसे को 48घंटे हो चुके हैं पर पुलिस ने पुख्ता तौर पर किसी भी आरोपी को गिरफ्तार नहीं किया है।

यह भी पढ़े : ENG vs WI: वेस्टइंडीज दौरे के लिए इंग्लैंड टीम का बड़ा फैसला इन दिग्गजों को किया टीम से बाहर?

लेखक : कशिश श्रीवास्तव