बड़ी खबर : युनिवर्सिटी परीक्षा रद्द , 10 लाख छात्रों को किया जाएगा प्रमोट।

देशभर में कोरोना ने आतंक मचा रखा है ,ऐसे में छात्रों को मौत के धकेल कर परीक्षा हो भी तो कैसे ? सरकार मजबूर है और छात्र दुविधा में। ऐसे में एक बड़ी खबर आ रही है गुजरात से की बोर्ड परीक्षा रद्द होने के बाद अब सरकार ने राज्यों के सभी यूनिवर्सिटी परीक्षा को रद्द करने का निर्णय लिया है। इस निर्णय के बाद गुजरात में करीब दस लाख छात्रों को प्रमोट किया जाएगा।

गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रुपाणी ने बीते 21 मई को आदेश जारी करते हुए कहा की प्रदेश के सभी सरकारी और गैर – सरकारी कॉलेज और विश्वविधालय अपने दूसरे , चौथे और छठवें सेमेस्टर के अभ्यार्थियों को बिना परीक्षा के प्रमोट किया जाए। इन सभी छात्रों के पिछली परीक्षाओं में मिले अंक के आधार पर इस बार अंक देकर प्रमोट करे। लेकिन उन्होंने आगे बताया की यह आदेश मेडिकल और पारा मेडिकल कोर्सेज वाले छात्रों के लिए लागू नहीं होगा।

आपको बताते चले की इसके पहले गुजरात सरकार ने कक्षा 9 और 11 के छात्रों को बिना परीक्षा प्रमोट करने का आदेश दिया था जबकि कक्षा 9 ,10 हुए 11 के छात्रों को प्रिंसिपल द्वारा 10 अंक ग्रेस मार्क के तौर पर दिया जा सकता है। हालंकि इन सभी छात्रों के मार्कशीट लिखा जाएगा की इन छात्रों की परीक्षाएं कोरोना की वजह से नहीं हुई है।

अभी कुछ दिन पहले चक्रवात ताउते ने भी पुरे गुजरात में भरी तबाही मचाई थी। एक बड़ा कारण इन परीक्षाओं को रद्द करना तूफ़ान ताउते भी हो सकता है। गुजरात में कोरोना में कहर मचाया ही साथ में ब्लैक फंगस ने भी अपनी दस्तक दे दी है। ऐसे में सरकार के पास परीक्षा को रद्द करने आलावा कोई और विकल्प नजर नहीं आ रहा था। पिछले साल से ही लाखो बच्चों के भविष्य पर खतरा मंडरा रहा है। छात्रों को अपने कॉलेज में जाके जो अध्ययन करने के बाद ज्ञान मिलता था वो अब ऑनलाइन में नहीं मिलता ऐसे में छात्रों को निकट भविष्य में दिक्क़ते होने वाली है। यूनिवर्सिटी में शोध कार्य करने वाले छात्रों के भविष्य पर इस कोरोना का बुरा असर हुआ है। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *