Udaipur Murder Case: PM Modi को भी उदयपुर हत्याकांड के आरोपियों ने दी थी धमकी | Rajasthan |

0
86

राजस्थान का उदयपुर पिछले 2 दिन से सुर्खियों में है। 10 दिन पहले नूपुर शर्मा के समर्थन में सोशल मीडिया पर पोस्ट डालने वाले कन्हैया की तालिबानी तरीके से हत्या कर दी गई, हत्या कांड के बाद पुलिस ने दो हत्यारों मोहम्मद रियाज और गौर मोहम्मद कों मंगलवार देर शाम गिरफ्तार कर लिया है। लेकिन तनाव का माहौल बना हुआ है, हालात काबू में नहीं इसलिए पूरे राजस्थान में 24 घंटे के लिए इंटरनेट सेवाएं बंद करने के साथ ही 1 महीने के लिए धारा 144 लागू कर दी गई है। इस केस को आतंकी कनेक्शन से भी जोड़कर देखा जा रहा है।

मोहम्मद रियाज और गौर मोहम्मद से SIT की टीम करेगी पूछताछ !

खबर है कि दोनों हमलावरों से एनआईए की टीम पूछताछ करेगी दरअसल मोहम्मद नियाज और गौर मोहम्मद ने हत्या का पूरा वीडियो बनाए उन्होंने वारदात के बाद सोशल मीडिया पर पोस्ट डाल कर हत्या की जिम्मेदारी भी ली है। वीडियो में उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी तक को धमकी दे डाली इसी वजह से एनआईए हरकत में आई है। वीडियो के आखिरी में कन्हैया के हत्यारे पीएम मोदी कों धमकी देते हुए साफ देखे जा सकते हैं, यही नहीं एक कथित हमलावर को यें कहते सुना जा सकता है कि उसने एक आदमी का सर कलम कर दिया है। उसने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लिए भी धमकी दी। कन्हैया के हत्यारों ने परोक्ष रूप से नूपुर शर्मा का भी जिक्र किया जिन्हें पैगंबर मोहम्मद पर एक टिप्पणी के मामले में भाजपा से निलंबित था।

कन्हैया लाल के दोनों बेटों को सरकारी नौकरी मिलेंगी !

इस घटना के बाद पूरे राजस्थान में अलर्ट है जबकि एसआईटी का गठन हो चुका है जिसमें ATS, SOG, ADG, अशोक राठौड़, ADG प्रफुल्ल कुमार और एक SP और एडिशनल SP शामिल होंगे। वारदात के बाद करीब 7 घंटे बाद तक कन्हैया का शव दुकान के बाहर पड़ा रहा, मंगलवार रात करीब 10:00 बजे प्रशासन से आश्वासन मिलने के बाद शव कों उठाया गया। कन्हैया लाल के दोनों बच्चों को सरकारी नौकरी परिवार वालों को 31 लाख रुपए बात सहमति बनी है। इसके अलावा लापरवाही बरतने वाले उदयपुर के धान मंडी थाना के एएसआई कों निलंबित कर दिया गया है। आपको बता दें कन्हैया लाल की धान मंडी स्थित भूत महल के पास सुप्रीम टेलर नाम से दुकान है. मंगलवार दोपहर लंच के बाद दो हमलावर कपड़े का नाम देने का बहाना बनाकर दुकान में घुसें इससे पहले कन्हैया लाल कुछ समझ पाते उन पर धारदार हथियारों से कई हमले हुए इसके बाद उन्होंने मौके पर ही दम तोड़ दिया।