Shivsena नेता Sanjay Raut पर गिरफ्तारी के बाद आई नई मुसीबत |

बीते दिन से पूरे देश में एक खबर आग की तरह फैल गई जब ईडी का छापा शिवसेना नेता संजय राउत के यहां पड़ा तभी से शिवसेना के अंदर गुस्सा है उबाल है। तों वही दूसरी ओर संजय रावत पर मुश्किलें बढ़ती हुई नजर आ रही है। पत्रा चॉल भूमि घोटाले के मामले में ईडी द्वारा गिरफ्तार किए जाने के बाद उनके खिलाफ अब एक और एफ आई आर दर्ज की गई है उनके खिलाफ यह शिकायत महिला गवाह को धमकाने के आरोप में दर्ज की गई है। जाहिर है कि ईडी ने बीते दिन सुबह संजय रावत के आवास पर छापेमारी की थी जिसके बाद देर रात उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया और अब महिला की ओर से केस यह बताता है कि संजय रावत अब बड़ी मुसीबत में फंस गए हैं।

संजय रावत की नई मुसीबत एक और FIR दर्ज, जाने क्यों ?

बताया जा रहा है कि मुंबई नें धन शोधन के एक मामले में गवाह द्वारा दर्ज कराई गई शिकायत के आधार पर कथित तौर पर एक महिला का शील भंग करने के आरोप में शिवसेना सांसद संजय राउत पर प्राथमिकी दर्ज की है। इस मामले में पुलिस के एक अधिकारी ने बताया कि गवाह स्वप्न पाटकर ने शिवसेना राज्यसभा सांसद संजय राउत के खिलाफ वाकोला पुलिस थाने में शिकायत दी है जिसके बाद प्राथमिकी दर्ज की गई। महिला की शिकायत के अनुसार उसे टाइप किए गए एक लेटर में दुष्कर्म और हत्या की धमकी दी गई थी यह लेटर 15 जुलाई को दिए गए एक अखबार में रखा हुआ था। जिसके बाद स्वप्ना पाटकर ने पुलिस के सामने बयान दर्ज कराया और स्वप्ना पाटकर कों सुरक्षा भी मुहैया कराई गई। स्वप्ना पाटकर ने कों धमकाने के आरोप में संजय रावत के खिलाफ एफ आई आर तों दर्ज कर ली तों वही स्वप्ना पाटकर पत्रा चॉल जमीन घोटाला मामले में गवाह है जिसमें ईडी ने संजय रावत को गिरफ्तार किया है।

संजय रावत के आवास से ईडी को मिले 11:30 लाख रुपए

तो वहीं दूसरी ओर ईडी के अधिकारियों के अनुसार संजय राउत को दक्षिण मुंबई के मलाड डिस्ट्रिक्ट में ईडी के मंडल दफ्तर में 6 घंटे से ज्यादा टाइम तक चली पूछताछ के बाद गिरफ्तार किया गया था। उन्होंने दावा किया कि शिवसेना नेता को धन शोधन रोकथाम कानून के तहत देर रात 12 बजकर हिरासत में लिया गया। क्योंकि यह बात सामने आई कि संजय रावत जांच में सहयोग नहीं कर रहे थे इससे पहले संजय राउत 1 जुलाई को ही के समक्ष पूछताछ के लिए उपस्थित थे लेकिन जब अगले दौर की पूछताछ के लिए उन्हें समन भेजा तो नहीं आए बार बार उन्हें समन भेजा गया तो वह कहने लगे कि 12 अगस्त तक संसद का मानसून सत्र चल रहा है जिसके कारण व्यस्त हूं और उसके बाद रविवार को ईडी पहुंच गई संजय रावत के यहां छापा मारने जिसमें कहा जा रहा है कि संजय रावत के घर से करीब 11:30 लाख रुपए मिले हैं और इस पर संजय रावत के भाई सुनील रावत का भी बयान सामने आ गया है। उन्होंने कहा है कि यह अयोध्या दौरे के लिए रखे गए थे जो भी यह 11:30 लाख रुपए हैं यह अयोध्या जाने वाले थे और शिवसैनिकों के लिए पैसा रखा गया था बरहाल अब इस मामले में आगे क्या होता है यह देखने वाली बात होगी।