कोरोना मरीज की मदद वाले ट्वीट पर बुरे फसे है सोनू सूद। उठ रहे है एक्टर पर सवाल।

0
133

देश में कोरोना की महामारी जबसे आई है तबसे लोगो को बड़ी मुसीबतो का सामना करना पड़ रहा है। ऐसे में जब देश को जरूरत थी तब सोनू सूद सामने आये। पिछले साल लॉक डाउन में भी हमने देखा की सोनू सूद ने हजारो लोगो को घर भेजने का काम किया था। और जब देश में दूसरी लहार आयी है तब सोनू सूद लोगो को ऑक्सीजन ,दवाई आदि देने में लगे है। हाल में ही सोनू सूद के ट्वीट को लेकर सवाल उठ रहे है। जिसके बाद कुछ लोगो ने सोनू सूद पर केस करने की नसीहत दे डाली। अब तक कोई मामला दर्ज नहीं हुआ।

आइये जानते है क्या है पूरा मामला –

उड़ीसा के गंजाम जिले के कलेक्टर और डीएम ने अपने ऑफिसियल ट्विटर अकाउंट पर एक पोस्ट शेयर जिसमे सोनू सूद के एक ट्वीट का फोटो था। इस फोटो में देखा जा सकता है की एक व्यक्ति कोरोना मरीज सोनू सूद से मदद मांगता है और उसके पोस्ट के जवाब में सोनू सूद ने लिखा था की चिंता मत करे ,बरहामपुर के गंजाम सिटी अस्पताल ( DCHC ) में बेड का इंतजाम कर दिया गया है|

इस पोस्ट के बाद डीएम के ऑफिसियल ट्विटर और कलेक्टर ने सोनू सूद को जवाब में लिखा की हमें सोनू सूद फाउंडेशन या सोनू सूद की ओर से कोई संपर्क नहीं हुआ है। उन्होंने बताया की मरीज होम आइसोलेशन में है और उसका स्वास्थ बेहतर है बेड की कोई भी समस्या नहीं है और इस पर सीएमओ उड़ीसा ने बताया की इस पुरे व्यवस्था पर बहरामपुर म्युनिसिपल कॉर्पोरशन अपनी नजर बनाये हुए है।

हलाकि इस पुरे मामले पर अब तक एक्टर सोनू सूद या उनकी फाउंडेशन के तरह से कोई प्रतिक्रिया नहीं आयी है। लेकिन सवाल जरूर खड़े हो रहे है अब सोनू सूद के ऊपर और उनकी फाउंडेशन के ऊपर। लेकिन ये बात भी समझना जरूरी है की सोनू सूद हजारो लोगो की मदद कर रहे है ऐसे में अगर कोई एक व्यक्ति के लिए इस तरह की बात सामने आती है तो इसको इतना बड़ा बखेड़ा करने का कोई औचित्य नहीं होना चाहिए। हजारो लोगो की मदद में ऐसी गलती हो सकती है। और जब मरीज को जरूरत नहीं थी बेड्स की तो फिर उसने सोनू सूद से मदद की अपील क्यों की थी ये अभी भी एक बड़ा सवाल है।