दिल्ली में 60 बंदरों को आइसोलेट किया गया, शेरनी जेनिफर और गौरी भी बीमार।

0
71

कोरोना का कहर देश में अब तक इंसानो तक ही सिमित था लेकिन अब पिछले कुछ महीनों से जो खबरे आ रही है वो बेहद डरावनी है। अब कोरोना के वजह से इंसानों के साथ – साथ अब जानवरों के संक्रमित होने की खबरे आ रही है। पिछले 4 मई को हैदराबाद के एक चिड़ियाघर में 18 एशियाटिक शेरोन के कोरोना से संक्रमित होने की खबर आई थी। लेकिन अब दिल्ली के चिड़ियाघर में 60 बंदरों को अलग कर दिया गया है।

दिल्ली सरकार के वन विभाग ने इन सभी बंदरो को दक्षिण दिल्ली के उन हिस्सों से पकड़ा है जहाँ संक्रमण के मामले ज्यादा है। इस सभी बंदरों को एनिमल रेस्क्यू सेन्टर तुगलकाबाद में क्वारनटीन कर दिया गया है।इस 60 बंदरों में से 30 का क्वारनटीन समय 14 दिन पूरा हो चूका है अब और इन सभी को असोला भाटी वाइल्डलाइफ सेंचुरी में वापस भेज दिया जाएगा जाकी बाकी बंदरों को अभी भी आइसोलेशन में रहना होगा।आइसोलेशन में रखे गए सभी 60 बंदरों का एंटीजेन टेस्ट करवाया गया लेकिन ये सभी नेगेटिव पाए गए है।

जबसे हैदराबाद के शेरों को कोरोना होने की खबर आई है तबसे दिल्ली में भी एहतियातन जानवरों को पकड़ कर आइसोलेशन में रखा जा रहा है।उत्तर प्रदेश के इटावा में भी एक शेरनी को कोरोना की संक्रमण की सुचना मिली है। लेकिन अफसरों को कहना है की ये मौसम बदलने की वजह से ये असर हुआ है।

डायरेक्टर के के सिंह ने बताया की शेरनी जेनिफर और गौरी बीमार है लेकिन उनको कोरोना नहीं है हो सकता है ये मौसम का प्रभाव हो। इस जानवरों में मौसम बदलने से हल्की – फुल्की बीमारी हो जाती है। और इनका इलाज सफारी में तैनात डॉक्टर कर रहे है और निगरानी रख रहे है। के के सिंह ने बताया की इस शेरनियों के स्मप्ले भेज दिए गए है लेकिन अब तक उनकी रिपोर्ट नहीं आई है ऐसे में ये बोलना ठीक नहीं है की उन शेरनी को कोरोना संक्रमण है। इस पर रिपोर्ट आने के बाद ही कुछ कहा जाएगा।