Tulsi Water Remedies: तुलसी के पानी के इस तरह करें टोटके, देखते ही देखते बदल जाएगा आपका भाग्य

0
17
Tulsi Water Remedies
Tulsi Water Remedies

Tulsi Water Remedies: पौराणिक काल से ही वास्तु शास्त्र में तुलसी के पौधे का विशेष महत्व होता है। आपको बता दें कि ज्योतिष शास्त्र में तुलसी के कई ऐसे उपायों के बारे में बताता गया है जिससे धन संबंधी समस्याओं से निजात पाई जा सकती है।

सबसे ज्यादा पवित्र है तुलसी का पौधा

हमेशा से ही हिंदू धर्म में तुलसी के पौधे को पूजनीय और पवित्र माना जाता है।ऐसा कहा जाता है कि जिनके घर में तुलसी का पौधा होता है, वहां हमेशा सुख–समृद्धि बनी रहती है।वहीं शास्त्रों की माने तो तुलसी के पौधे में मां लक्ष्मी का वास भी होता है। आपको बता दें कि नियमित रूप से तुलसी के पौधे की पूजा करने से मां लक्ष्मी के साथ भगवान विष्णु की भी कृपा प्राप्त होती है।वहीं, वास्तु शास्त्र के मुताबिक घर में तुलसी का पौधा सकारात्मक ऊर्जा लेकर आता है।

तुलसी को जल देने के उपाय

1. सबसे पहले आप तांबे या पीतल का लोटा ले लें अब इसमें जल डाल दें, इसमें तुलसी की कुछ पत्तियां डालने के बाद लोटे का जल पवित्र और शुद्ध हो जाएगा। ऐसा नियमित रूप से करने से घर में मां लक्ष्मी का वास होता है।

2.वास्तु जानकारों की मानें तो रातभर तुलसी को पानी में भिगोकर रखने और इसके बाद सुबह-सुबह इस शुद्ध जल को पूरे घर में के हर कोने में इस पानी का छिड़कने से घर में सकारात्मक ऊर्जा आती है।

3. आपको बता दें कि भगवान विष्णु को तुलसी बेहद प्रिय है , साथ ही साथ मार्गशीर्ष महीना भी भगवान श्री कृष्ण को बेहद प्रिय है।ये तो पता ही होगा कि श्री कृष्ण भगवान विष्णु का ही अवतार है। इसीलिए श्री कृष्ण को इस माह तुलसी के पानी का स्नान कराने से उनकी कृपा प्राप्त होती है।इसके लिए आप एक तांबा और पीतल के लोट में थोड़े से जल में तुलसी डाल दें। इसके बाद इस जल से बाल गोपल को स्नान कराना चाहिए। इससे बाल गोपाल जल्दी प्रसन्न होते हैं।

यह भी पढ़े:  Vastu Tips: घर के अंदर इस पक्षी की मूर्ति रखने पर देखते ही देखते बदल जाता है भाग्य, बच्चों की होने लगेगी उन्नति

4. अगर आप बिजनेस और व्यापार में अपार तरक्की पाना चाहते हैं तो इसके लिए तुलसी का पानी बहुत लाभकारी है। तुलसी में पानी डालकर 2-3 दिनों के लिए छोड़ दें , अब इस पानी को अपने ऊपर छिड़क लें , साथ ही साथ फैक्ट्री, दुकान, ऑफिस, कार्यस्थल आदि में भी छिड़काव कर दें। इससे सारी नकारात्मक ऊर्जा का समाप्त होती है।

यह भी पढ़ें- Avoid These Utensils: इस धातु के बर्तनों को गलती से भी ना करें इस्तेमाल, हो सकता है इन बिमारियों का खतरा