Aspergillus Osteomyelitis बनी देश में नई मुसीबत, कोरोना से ठीक होने के बाद मिले इस फंगस से पीड़ित 4 मरीज, सर्जरी ही है एक मात्र विकल्प।

Aspergillus Osteomyelitis देश में एक नई मुसीबत बन रहा है। आपको याद होगा कोरोना वायरस के संक्रमण कि जब दूसरी लहर जारी थी तो दूसरी लहर में कोरोना से पीड़ित होने के बाद ठीक हुए मरीजों में कई तरह की फंगस सामने आ रहे थे। दूसरी लहर के दौरान कोरोना से ठीक हुए मरीजों में ब्लैक फंगस, सफेद फंगस, एलो फंगस तमाम तरह के नए फंगस के मामले सामने आए थे। लेकिन देश में अभी कोरोना खत्म नहीं हुआ है और कोरोना के मरीज अभी भी मिल रहे हैं।

यह भी पढ़ें: Hydrogel Tablet के जरिये नदियों और तालाबों का पानी 1 घंटे में हो जाएगा पीने के लायक, Hydrogel Tablet 99.9 % तक साफ़ कर देगा गन्दा पानी, जाने कैसे करता है काम?

Aspergillus Osteomyelitis के मिल रहे है मरीज

इस बीच कोरोना की दूसरी लहर के बाद इस वक्त एक और नया फंगस मिलने लगा है। चिकित्सीय भाषा में इसको Aspergillus Osteomyelitis (एस्पर्गिलस आस्टियोमाइअलाइटिस) कहा जाता है। यह फंगस बेहद दुर्लभ किस्म के फंगस हैं और इनसे होने वाले संक्रमण कोरोना मरीजों के मुंह या फेफड़ों में रीड की हड्डी में होने वाले टीवी जैसे लक्षण पैदा कर रहे हैं।

Aspergillus Osteomyelitis

कोरोना से ठीक होने के एक महीने बाद Aspergillus Osteomyelitis के मिले लक्षण

टाइम्स ऑफ इंडिया की एक रिपोर्ट के मुताबिक पिछले 3 महीने में कोरोना से उबरने वाले पुणे के 4 मरीजों में इस नए फंगस (Aspergillus Osteomyelitis) के लक्षण पाए गए हैं। पुणे में मिले इन मामलों के बाद से चिकित्सा जगत को फिर से चिंता में डाल दिया है। रिपोर्ट के अनुसार 66 वर्ष के एक मरीज में कोरोना संक्रमण से उबरने के 1 महीने बाद हल्के हल्के बुखार और बेहद गंभीर तेज दर्द वाले कमर दर्द की शिकायत शुरू हुई। तेज दर्द और बुखार की शिकायत के बाद चिकित्सकों ने शुरुआत में मरीज का इलाज मांसपेशियों को आराम देने वाले बिना स्टेरॉयड की दवाओं से शुरू किया जिसके बाद उन्हें राहत नहीं मिली।

यह भी पढ़ें: Covid 19 Vaccine For Children : DCGI से कोवैक्सीन को अभी भी नहीं मिली मंजूरी, बच्चों के वैक्सीन के लिए करना होगा और इन्तजार, जाने कौन कौन से देशों में बच्चों को कौन सी वैक्सीन दी जा रही है?

MRI कराने के बाद पकड़ में आयी Aspergillus Osteomyelitis की बीमारी

बाद में जब डॉक्टरों ने मरीज का m.r.i. स्कैन कराया जिसके बाद रीढ़ की हड्डी में एक बेहद गंभीर संक्रमण की बीमारी होने की जानकारी मिली। इस बीमारी की वजह से उनकी बिना स्टेरॉयड की हड्डी को नुकसान पहुंच रहा था। हड्डी की बायोप्सी और ऊतक जांच के बाद मरीज में एस्पर्गिलस आस्टियोमाइअलाइटिस फंगस (Aspergillus Osteomyelitis) पाया गया।

भारत में पहली बार मिले है Aspergillus Osteomyelitis के मरीज

पुणे के दीनानाथ मंगेशकर अस्पताल के संक्रमण विशेषज्ञ डॉक्टर परीक्षित प्रयाग के अनुसार पिछले 3 महीने में इस एस्पर्गिलस (Aspergillus Osteomyelitis) श्रेणी से होने वाले मरीजों का इलाज हो चुका है। भारत में इससे पहले कोरोना से ठीक होने वाले मरीजों में इसके लक्षण दिखने का कोई भी मामला सामने नहीं आया था।

यह भी पढ़ें: Lakhimpur Kheri में किसानों ने किसी भी कांग्रेस नेता को मंच पर आने की नहीं दी इजाजत, प्रियंका गाँधी आज गयी थी लखमीपुर, 4 किसानों की हुई थी मौत, जाने किसान क्यों कांग्रेस से है ख़फ़ा?

स्टेरॉयड के इस्तेमाल की वजह से हो रहे इसके संक्रमण

डॉक्टर दीक्षित के मुताबिक ये मरीज कोरोना के गंभीर संक्रमण से पीड़ित थे और कोरोना संक्रमण के दौरान निमोनिया व अन्य संबंधी जटिलताओं के कारण उन्होंने बड़े पैमाने पर स्टेरॉयड्स दवाइयों का इस्तेमाल किया था। कोर्टिकोस्टेरॉयड्स के लंबे वक्त तक इस्तेमाल करने के बाद अन्य कई संक्रमण होने का खतरा बढ़ने लगता है।

Aspergillus Osteomyelitis क्या होता है?

1. यह एक प्रकार से हड्डियों में होने वाला बेहद दुर्लभ किस्म का खतरनाक फंगस संक्रमण होता है।

2. Aspergillus Osteomyelitis उन मरीजों को निशाना बनाता है जिनका इम्यून सिस्टम कमजोर होता है।

3. रीड की हड्डी में टीवी जैसे ही लक्षण दिखने के कारण इसे पहचान कर पाना बेहद जटिल हो जाता है।

4. यह सबसे पसबसे ज्यादा रीढ़, पसलियों और सिर की हड्डियों में असर करता है।

5. आम तौर पर इससे मरीजों को छुटकारा दिलाने के लिए सर्जरी करना ही सही विकल्प माना जाता है।

यह भी पढ़ें: Fungus से किया जाएगा कैंसर का इलाज, फफूंद में पाए जाने वाले ख़ास केमिकल का होगा इस्तेमाल, हिमालय की यह है खास फफूंद की खासियत क्या है?

2 thoughts on “Aspergillus Osteomyelitis बनी देश में नई मुसीबत, कोरोना से ठीक होने के बाद मिले इस फंगस से पीड़ित 4 मरीज, सर्जरी ही है एक मात्र विकल्प।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *