यूपी के बाद गुजरात के साबरमती नदी में मिला कोरोना वायरस।

जबसे कोरोना आया है तब से हर दिन इसको लेकर नए-नए खुलासे होते रहते हैं। भारत में कोरोना वायरस की घातक दूसरी लहर का प्रकोप धीरे-धीरे कम होता नजर आ रहा है। भारत एक बुरे दौर से गुजरने के बाद धीरे-धीरे स्थिति सुधरती नजर आ रही है। लेकिन भारत में कोरोना के संकट अभी टला नहीं है। ऐसे में गुजरात की साबरमती नदी से एक बुरी खबर आ रही है।

साबरमती नदी में कोरोना वायरस का संक्रमण

गुजरात के सबसे प्रसिद्ध और महत्वपूर्ण साबरमती नदी में कोरोना वायरस का संक्रमण पाया गया है। अहमदाबाद के बीचो बीच से गुजरने वाली इस साबरमती नदी के पानी के सैंपल लिए गए जिसके बाद जांच में वायरस संक्रमित होने का खुलासा हुआ। इस साबरमती नदी के अलावा अहमदाबाद के अन्य दो बड़े तालाबों में भी कोरोना वायरस संक्रमण होने की पुष्टि की गई है। अहमदाबाद के जिन बड़े तालाबों में इनकी पुष्टि हुई है उनके नाम काकरिया और चंदोला हैं।

यह भी पढ़े: ZEBRONICS की स्मार्ट वाच Zebronics ZEB-FIT4220CH कालिंग फीचर्स के साथ हुई लांच ,कीमत है बेहद कम।

आपको बता दें साबरमती से जुड़े अन्य सीवेज के सैंपल भी लिए गए थे जिनमें कोरोना वायरस का संक्रमण पाया गया था। प्राकृतिक जल में इस तरह के कोरोना वायरस के संक्रमण का पाया जाना बेहद ही चिंतित करने वाला विषय है। प्रोफेसर मनीष कुमार के अनुसार नदियों के पानी के सैंपल लिए गए और जांच के दौरान इनमें कोरोना वायरस के संक्रमण होने की पुष्टि हुई जो काफी खतरनाक है।

देश के सभी प्राकृतिक जल के स्रोतों की जांच जरुरी

आईआईटी गांधीनगर ने इस रिसर्च को लेकर बताया कि हमने 3 सितंबर से 29 दिसंबर तक हर हफ्ते पानी के सैंपल इकट्ठा किए। फिर इन सैंपलों को लेने के बाद इनकी जांच की गई और कोरोना वायरस का संक्रमण पाया गया। गांधीनगर आईआईटी के पृथ्वी और विज्ञान विभाग के प्रोफेसर मनीष कुमार के अनुसार साबरमती से 694, काकरिया तालाब से 549 और चंदोला तालाब से 402 सैंपल इकट्ठा किया गया था और इनकी जांच में कोरोना वायरस का संक्रमण पाया गया है।

यह भी पढ़े: भाजपा के सवाल पर कांग्रेस का जवाब : कहा सोनिया गांधी ने कोविशील्ड के लगवाए हैं दोनों डोज, जाने क्या है पूरा मामला?

इस शोध के बाद माना जा रहा है कि यह वायरस प्राकृतिक जल में भी जीवित रहने में सफल है इसलिए देश के सभी प्राकृतिक जल के स्रोतों की जांच जरूर करनी चाहिए ,क्योंकि कोरोना वायरस की दूसरी लहर में इस वायरस के गंभीर म्यूटेशन देखे जा रहे।

यह भी पढ़े: कुंभ मेला में हुए फर्जी कोविड टेस्टिंग का मामला आया सामने, 530 सैंपल एक ही घर से कैसे लिए गए?

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *