बिहार में चिराग तले हुआ अंधेरा, LJP में चले पर्दे के पीछे ऑपरेशन की पूरी कहानी।

0
37
LJP चिराग पासवान

अमूमन देश में देखा जाता है कि जब किसी राज्य में चुनाव होने वाला हो तब वहां पर सियासी हलचल देखने को मिल जाती है। लेकिन अभी बिहार में विधानसभा चुनाव कुछ वक्त पहले ही खत्म हुआ है और एक बार फिर बिहार में राजनीति की सुर्खियां आने लगी। खबर है लोक जनशक्ति पार्टी से जिसमें नाराज विधायकों ने पार्टी को छोड़ने का ऐलान किया है। एलजेपी में फूट पड़ गई। इस फुट के चिराग पासवान अकेले पड़ गए है।

यह भी पढ़े :केंद्रीय मंत्रिमंडल में जल्द होगा फेरबदल ,ज्योतिरादित्य सिंधिया को जल्द ही मोदी कैबिनेट में मिलेगी जगह !

LJP का इतिहास

पार्टी से नाराज चल रहे चार सांसदों ने लोक जनशक्ति पार्टी को छोड़ने का फैसला कर लिया है। आपको बता दें इस पार्टी के मुखिया और दिवंगत नेता रामविलास पासवान इस पार्टी का गठन सन 2000 में किया था। उनकी मृत्यु के 8 महीने बाद ही पार्टी टूट गई।

चिराग पासवान को अपनों ने दिया धोखा

बताया जा रहा है कि इसके पीछे रामविलास पासवान के छोटे भाई पशुपति पारस का हाथ है। लोक जनशक्ति पार्टी में चार सांसद चंदन सिंह ,वीणा देवी ,और प्रिंस राज ने सांसद पशुपति पारस को अपना लोक जनशक्ति पार्टी संसदीय दल का नेता चुना। इस घटना के बाद से चिराग पासवान अलग-थलग पड़ गए हैं ।

यह भी पढ़े : अजब बेइज्जती : चीन और अमेरिका ने फिर की पाकिस्तान की बेइज्जती।

NDA से अलग होने का फैसला चिराग पासवान को पड़ा भारी

आपको बता दें इस पार्टी को तोड़ने की साजिश बिहार विधानसभा चुनाव से ही शुरू हो गई थी जब चिराग पासवान ने एनडीए से अलग होने का फैसला कर दिया था। चिराग पासवान के चाचा पशुपति पारस ने एनडीए से अलग होने के फैसले पर आपत्ति जताई थी लेकिन चुनाव के दौरान रामविलास पासवान की मृत्यु के वजह से पार्टी के नेताओं ने चिराग पासवान के इस फैसले पर खुलकर विरोध नहीं कर पाए।

यह भी पढ़े : राम मंदिर की जमीन ख़रीदारी में हुआ बड़ा घोटाला।

JDU ने चिराग पासवान से लिया बिहार चुनाव का बदला ?

खबर है कि चुनाव के बाद से ही नितीश कुमार की पार्टी ने एलजेपी पार्टी को तोड़ने की साजिश में लग गई थी। चिराग पासवान की पार्टी से एक ही विधायक जीत पाया था और उसको नीतीश कुमार की पार्टी ने अपनी पार्टी में मिला लिया। यह पहली सफलता थी जब जेडीयू ने पासवान को नुकसान पहुंचाने के लिए ऐसा कदम उठाया। और इस सफलता के बाद से ही जेडीयू अपने अगले ऑपरेशन में लग गई,और आज पार्टी में फूट पड़ गई।

यह भी पढ़े : देश में थम रही है कोरोना के दूसरी लहर की रफ़्तार , मौत के आंकड़े चिंताजनक