Cryptocurrency Index India : IC15 भारत में हुआ लॉन्च,आइये जानते है क्या है ये ?

0
2

क्रिप्टोकरेंसी (Cryptocurrency) में दिलचस्पी रखने वालों के लिए खबर है कि भारत का पहला क्रिप्टोकरेंसी इंडेक्स  (Cryptocurrency Index) लॉच हो गया है। बता दें कि मुंबई की फाइनेंसियल कंटेंट प्रोवाइडर कंपनी टीकर प्लांट (Ticker Plant Limited) ने अपने एप क्रिप्टो वायर (Cryptowire) के जरिए इसे  लॉन्च किया है और इसे  IC15 नाम दिया गया है। तो अब आपको बताते हैं कि आखिर यह क्रिप्टो इंडेक्स (Cryptocurrency Index) करता क्या है? कंपनी के मुताबिक यह दुनिया भर के 15 नामी प्रमुख (Leading) क्रिप्टो करेंसी के परफॉर्मेंस को ट्रैक करता है और मार्केट के नियमों पर आधारित व्यापक मार्केट इंडेक्स (Market Index) है। यह भी जानना जरूरी है कि IC15 के इंडेक्स के टॉप क्रिप्टो करेंसी में कौन-कौन सी शामिल हैं? बता दें कि इस क्रिप्टो इंडेक्स (Cryptocurrency Index) में   बिटकॉइन (Bitcoin), एथीरियम (Ethereum),बिटकॉइन  कॅश (Bitcoin Cash), चेन लिंक (Chainlink) , पोल्का डॉट (Polkadot), कार्डनों (Cardano), लाइटकॉइन (Litecoin), एवलॉच (Avalanche ), बाइनेंस कॉइंस (Binance Coin), सोलाना (Solana), एक्सआरपी (XRP), सीबा इनु (Shiba Inu coin), टेरा (TERA), यूनीस्वैप(Uniswap) और डोजीकॉइन (Dogecoin) शामिल है। बता दें कि इंडेक्स की बेस वैल्यू  (Base Value) 10 हजार पर सेट है, और बेस डेट 1 अप्रैल 2018 की है। 1 जनवरी 2022 तक इंडेक्स ओपन वैलू  71 हजार 463.30 पॉइंट थी। कंपनी ने कहा कि इंडेक्स बजार की 80 प्रतिशत से ज्यादा गतिविधियों को संज्ञान  में रखता  है। यह क्रिप्टो (Cryptocurrency) के बजार को ट्रैक करने का सबसे अच्छा टूल है। अब सवाल ये है कि ये  इंडेक्स (Cryptocurrency Index) करना क्या चाहता है।

Cryptocurrency Index
Cryptocurrency Index

क्या है Cryptocurrency Index IC15 इंडेक्स के नियम ?

बता दें कि कंपनी का कहना है कि IC15 इंडेक्स को लॉन्च करने का उद्देश्य पूरे क्रिप्टो और ब्लाकचैन इको सिस्टम के नॉलेज सर्कल को बढ़ाना है। क्रिप्टो वायर के मैनेजिंग डायरेक्टर जिगीश सोनागरा ने कहा कि इंडेक्स के जरिये सिखकर बेहतर तरीके से कमाई की जा सकती है। टिकरप्लांट ने दिसम्बर 2021 में सुपर एप क्रिप्टो वायर लॉन्च किया था। यह क्रिप्टो यूजर्स को रियल टाइम मार्केट प्राइस न्यूज़, नॉलेज और रिसर्च के बारे में बताता है। टिकरप्लांट क्रिप्टो यूनिवर्सिटी नाम के अपने क्रिप्टो यूट्यूब चैनल के जरिए डिजिटल लेन-देन सीखने में मदद करता है। बता दें कि रिसर्च की स्टडी के अनुसार दुनिया भर में सबसे ज्यादा क्रिप्टो इन्वेस्टर्स भारत में ही है? इसकी संख्या लगभग 10 करोड़ बताई जाती है। देश में क्रिप्टो सेगमेंट को लेकर अभी तक कोई क़ानून मौजूद नहीं है! केंद्र सरकार ने संसद में शीतकालीन सत्र के दौरान क्रिप्टो बिल पेश करने की योजना बनाई थी? लेकिन इसे टाल दिया गया है। इस बिल की स्वीकृति के लिए कैबिनेट के पास भेजा गया है बिल में सभी प्राइवेट क्रिप्टो करेंसी पर देश में प्रतिबंध लगाने की जरूरत बताई गई है। इसके साथ ही इसमें कहा गया है कि रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया एक सेंट्रलाइज डिजिटल करेंसी लाने पर काम कर रहा है।

 

यह भी पढ़े:Coronavirus Omicron Variant In India : कोविड टास्क फ़ोर्स ने दी राहत की ख़बर।