महाराष्ट्र : अनिल देशमुख को ईडी ने भेजा नोटिस, 11:00 बजे तक पेश होने का दिया आदेश।

0
32
अनिल देशमुख

महाराष्ट्र के पूर्व गृह मंत्री अनिल देशमुख को प्रवर्तन निदेशालय ईडी ने नोटिस भेजकर आज सुबह 11:00 बजे तक पेश होने का आदेश दिया है। महाराष्ट्र के पूर्व गृह मंत्री के खिलाफ कथित मनी लांड्रिंग के मामले में ईडी ने नोटिस भेजा है। नोटिस भेजने के अलावा ईडी ने अनिल देशमुख के निजी सहायक कुंदन शिंदे और उनके निजी सचिव संजीव पलाड़े को गिरफ्तार भी कर लिया।

यह भी पढ़े : JioPhone Next के जाने टॉप फीचर्स के बारे में, दुनिया का सबसे सस्ता स्मार्ट फ़ोन जल्द आएगा बाजार में।

कल अनिल देशमुख के घर पर हुई थी छापेमारी

आपको बता दें कल यानी शुक्रवार को अनिल देशमुख के नागपुर और मुंबई वाले घर पर ईडी ने छापेमारी की थी। बीते कुछ महीने पहले महाराष्ट्र के पूर्व गृह मंत्री पर मनी लांड्रिंग के गंभीर आरोप लगाए गए थे जिसके बाद उन्हें अपने महाराष्ट्र गृह मंत्री के पद से इस्तीफा देना पड़ गया था। शुक्रवार को अनिल देशमुख के घर पर ईडी ने छापेमारी की।

पूर्व कमिश्नर परमवीर सिंह ने लगाए थे आरोप

आपको बता दें मुंबई के पूर्व कमिश्नर परमवीर सिंह की तरफ से पूर्व गृह मंत्री अनिल देशमुख पर आरोप लगाया गया था। मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को परमवीर सिंह ने एक पत्र लिखकर पूर्व गृह मंत्री अनिल देशमुख के ऊपर भ्रष्टाचार के गंभीर आरोप लगाए थे। इसके साथ ही उन्होंने हाई कोर्ट में भी एक याचिका दायर की थी।

यह भी पढ़े : यूपी :18 साल से अधिक उम्र वालों को आज से लखनऊ में लगेगी स्पूतनिक V वैक्सीन ,ऐसे कराएं रजिस्ट्रेशन।

परमवीर सिंह ने मुंबई हाईकोर्ट में याचिका दायर करते हुए लिखा कि अनिल देशमुख ने सचिन वाजे को हर महीने लगभग 100 करोड़ रुपए वसूली करने को कहा था। परमवीर सिंह के आरोपों के बाद पूर्व गृह मंत्री के ऊपर मामला दर्ज किया गया और ईडी उनसे लगातार पूछताछ कर रही थी। प्रवर्तन निदेशालय ने तलोजा जेल में पूर्व पुलिस अधिकारी सचिन वाजे का भी बयान दर्ज किया है।

अनिल देशमुख ने अपने ऊपर लगे आरोपों पर दी सफाई

अपने आरोपों पर सफाई देते हुए अनिल देशमुख का कहना है कि परमवीर सिंह को जब मुंबई पुलिस कमिश्नर के पद से हटाया गया उसके बाद उन्होंने झूठे आरोप उनके ऊपर लगाने शुरू कर दिए। अनिल देशमुख ने कहा कि जब परमवीर सिंह पुलिस कमिश्नर के पद पर थे तब ये सारे आरोपों क्यों नहीं लगाए? अनिल देशमुख के घर पर मनी लांड्रिंग के गंभीर आरोपों के बाद ईडी ने दूसरी बार छापा मारा था। इससे पहले ईडी ने 25 मई को उनके घर छापेमारी की थी। अनिल देशमुख पर इल्जाम लगने के बाद उन्होंने खुद ही इस पद से इस्तीफा दे दिया।

सचिन वाजे ने भी लगाए आरोप

अनिल के ऊपर पूर्व पुलिस कमिश्नर परमवीर सिंह के अलावा सचिन वाजे ने भी वसूली का आरोप लगाया था। एनआईए को दिए बयान में सचिन वाले ने कहा 6 जून 2020 को मैंने दोबारा ड्यूटी ज्वाइन की। उनकी ड्यूटी ज्वाइन करने के वजह से एनसीपी प्रमुख शरद पवार खुश नहीं थे और उन्होंने मुझे दोबारा सस्पेंड करने के लिए कहा था।

यह भी पढ़े : उत्तर प्रदेश में भी कोरोना के नए वेरिएंट डेल्टा प्लस का मंडराया खतरा , योगी ने दिए सख़्त आदेश।

सचिन वाजे ने बताया कि यह पूरी बात मैंने पूर्व गृह मंत्री देशमुख को बताई थी। इस मामले में शरद पवार को मनाने के लिए देशमुख ने मुझसे दो करोड रुपए मांगे थे। इतनी बड़ी रकम देना मेरे बस में नहीं था। बाद में देशमुख मुझसे इसको चुकाने के लिए कहा। इसके बाद मेरी पोस्टिंग मुंबई के क्राइम इंटेलिजेंस यूनिट में कर दी गई।

यह भी पढ़े : एक ऑलराउंडर को महज उसकी बल्लेबाजी के लिए खिलाना गलत निर्णय था : संजय मांजरेकर