Russia Ukraine war: nuclear Strike practice कों लेकर व्लादिमीर पुतिन नें कही कैसी बात?

0
9

रूस और यूक्रेन के बीच भीषण संग्राम को ढाई महीने हो चुके हैं लेकिन दोनों देश अपने-अपने स्तर पर पूरी जोर आजमाइश कर रहे हैं। ऐसे में इस युद्ध की विभीषिका शांत होने का नाम नहीं ले रही कई तरह के अंतरराष्ट्रीय प्रतिबंधों के बावजूद अमेरिका समेत पश्चिम क़े देश रूस पर दबाव बना पाने लगभग नाकाम ही रहे है। इस बीच रूस की ओर से एक ऐसा बयान आया है जिसने दुनिया को सन्न कर दिया है। जिस चीज को लेकर रूस अब तक संकेतों में ही बात कर रहा था और जिस चीज का नाम ले ले कर वों अब तक चेतावनिया ही दे रहा था। उस दहशत को लेकर आखिर-कार उसने वों बात कही ही दी है जों दुनिया सुनना नहीं चाह रही थी। रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन नें अब खुद सीना ठोक कर यें एलान कर दिया है कि रूस परमाणु हमले को लेकर अभ्यास शुरू कर चुका है। बताया जा रहा है कि उसकी ओर से यें बयान ऐसे वक्त पर सामने आया है जब अमेरिका और पश्चिम के देशों की ओर से यूक्रेन को कई तरह की बैक डोर सप्लाई जा रही है।

परमाणु हमले को लेकर पुतिन नें ‘सीना ठोक’ किया यें एलान !

आपको बता दें कि रूसी विदेश मंत्री सर्गेई लावरोव पहले ही तीसरे विश्व युद्ध के वास्तविक खतरे की चेतावनी दे दी थी। जिससे पश्चिम के देशों में भी खल-बली मच गई थी। पिछले दिनों संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंटोनियो गुटेरेश भी इन तमाम शंकाओं और संभावनाओं के खतरों के बीच यूक्रेन और रूस की यात्रा कर चुके हैं लेकिन उनकी उस यात्रा का भी कोई खास असर नहीं दिखाई दिया था। उनके उस दौरे को लेकर कहा जा रहा था कि संयुक्त राष्ट्र महासचिव का खुद दोनों देशों से संपर्क स्थापित करना कहीं ना कहीं किसी बड़े खतरे की संभावना को टालने के मकसद से ही था। अब इस बीच रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन नें खुलकर इस बात को स्वीकार कर लिया कि उनकी सेना परमाणु शक्ति से संपन्न मिसाइलों को फायर करने की प्रैक्टिस कर रही है। आपको बता दें कि रूस की ओर से यें अभ्यास युद्ध के 70 वें दिन की गई है, रूसी राष्ट्रपति की ओर से आये इस बयान से संकेत साफ है कि रूस कभी रुकने वाला नहीं है। उन्होंने नें जता दिया है कि अगर मकसद पूरा होने के बीच किसी नें बांधा बनने की कोशिश की तों अंजाम परमाणु हमले से जवाब भी हो सकता है।

परमाणु हमले को लेकर रुसी रक्षा मंत्रालय का बड़ा बयान ?

इस सिलसिले में रूसी रक्षा मंत्रालय नें जानकारी साझा की है रूसी मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक रूस ने बाल्टिक सागर में परमाणु क्षमता वाली इस्कंदर मोबाइल बायलिस्टिक मिसाइल सिस्टम का अभ्यास किया है। गौरतलब है कि पिछले 2 महीनों से जारी इस भीषण संग्राम में अमेरिका समेत कई पश्चिमी देश यूक्रेन को बैक डोर हेल्प कर रहे हैं रूस पर दबाव बनाने के लिए कई तरह के कदम भी उठाए गए हैं लेकिन रूसी राष्ट्रपति की ओर से आए इस बयान ने रूस का इरादा अब पूरी तरह से साफ कर दिया है।