दिल्ली में पूरी तरह से बाजारों को खोलने कि अनुमति , 50 % क्षमता के साथ रेस्टोरेंट में बैठने कि इजाजत।

0
43
दिल्ली

देश में कोरोना की जब दूसरी लहराई लहर आई थी तब दिल्ली की स्थिति बड़ी भयावह हो गई थी। दिल्ली में हर दिन बढ़ते मामले केंद्र और राज्य सरकारों की चिंता बढ़ाती नजर आ रही थी। दिल्ली में ऑक्सीजन की कमी ,बेड की कमी ,दवाइयों की कमी की वजह से बहुत से लोगों की जान गई।

यह भी पढ़े : केंद्रीय मंत्रिमंडल में जल्द होगा फेरबदल ,ज्योतिरादित्य सिंधिया को जल्द ही मोदी कैबिनेट में मिलेगी जगह !

लेकिन केंद्र और राज्य सरकारें एक-दूसरे पर जोहम्त लगाने में पीछे नहीं रहे। केंद्र सरकार ने केजरीवाल सरकार पर आरोप लगाया और केजरीवाल ने केंद्र सरकार पर आरोप लगाया। कोरोना की महामारी के बीच में पूरे देश ने देखा कि किस तरह से आरोप और प्रत्यारोप का दौर दिल्ली में चल रहा था। लेकिन अब दिल्लीवासियों के लिए राहत की खबर आनी शुरू हो गई है।

धीरे-धीरे दिल्ली में कोरोना के मामले कम होने लगे हैं। दिल्ली को अब लॉकडाउन से आजाद करने का समय धीरे-धीरे आ रहा है। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने रविवार को कहा कि अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने के लिए अब जरूरी है कि एक्टिविटीओं को धीरे धीरे शुरू किया जाए।

यह भी पढ़े : देश में थम रही है कोरोना के दूसरी लहर की रफ़्तार , मौत के आंकड़े चिंताजनक

केजरीवाल ने बताया कि सोमवार से दिल्ली में हर दिन मॉल्स और बाजार को खोला जा सकेगा। लेकिन इनको सुबह 10:00 बजे से रात 8:00 बजे तक ही खोलने की अनुमति रहेगी। दिल्ली में अब तक रेस्टोरेंट में बैठकर खाने की अनुमति नहीं थी लेकिन सोमवार से 50% सीटिंग कैपेसिटी के साथ खोलने की इजाजत दे दी गई है।

यह भी पढ़े : ब्लैक फंगस की दवा हुई टैक्स फ्री, कोरोना वैक्सीन पर 5% जीएसटी अभी भी बरकरार।

दिल्ली में स्कूल , कोचिंग रहेंगे बंद

दिल्ली सरकार ने बताया स्कूल, कॉलेज, कोचिंग इंस्टिट्यूट, सामाजिक ,धार्मिक ,राजनीतिक गतिविधियों पर अभी रोक रहेगी। जिम,पब्लिक पार्क, गार्ड, योगा इंस्टीट्यूट सभी बंद रहेंगे। केजरीवाल सरकार ने बताया कि सरकारी दफ्तर में 100% अधिकारी और बाकी कर्मचारी 50 फ़ीसदी क्षमता के साथ काम करेंगे। प्राइवेट ऑफिस में 50% कैपेसिटी के साथ सुबह 9:00 से शाम 5:00 बजे तक काम करने की इजाजत दी गई है।

यह भी पढ़े :धारा 370 पर एक बार फिर छलका दिग्विजय सिंह का दर्द, कहा धारा 370 हटाना अत्यंत दुखद निर्णय।