ज्ञानवापी मस्जिद के बाद अब मथुरा की प्रसिद्ध शाही ईदगाह मस्जिद को सील करने की मांग उठी ।

0
103

मथुरा की प्रसिद्ध शाही ईदगाह मस्जिद को सील करने की मांग उठी ।

वाराणसी की ज्ञानवापी मस्जिद को सील करने के बाद अब मथुरा की प्रसिद्ध शाही ईदगाह मस्जिद को सील करने की मांग उठने लगी है।इसके लिए मथुरा अदालत में याचिका दायर की गई है। हिंदू याचिकाकर्ताओं का दावा है कि अगर परिसर को सील नहीं किया गया तो गर्भ ग्रह और अन्य पुरातात्विक मंदिर के अवशेष क्षतिग्रस्त या हटाए जा सकते हैं। दरअसल ज्ञानवापी मस्जिद में शिवलिंग के मिलने के दावे के बाद उस जगह को सील कर दिया गया है जहां मस्जिद का वजूखाना है।

शाही ईदगाह मस्जिद
शाही ईदगाह मस्जिद

ज्ञानवापी मस्जिद में शिवलिंग की कार्यवाही के बाद अब मथुरा की ईदगाह की मस्जिद को भी सील करने की मांग की गई है इसके लिए मथुरा के सिविल जज सीनियर डिवीजन की कोर्ट में याचिका दायर की गई है। मथुरा सिविल जज सीनियर डिवीजन की कोर्ट में अधिवक्ता महेंद्र प्रताप सिंह ने प्रार्थना पत्र लगाया है इसमें उन्होंने शाही ईदगाह पर सुरक्षा बढ़ाए जाने और वहां आने-जाने पर रोक और सुरक्षा अधिकारी को नियुक्त करने की मांग की है।

यह भी पढ़े : LIC IPO listing: LIC IOP की फ्लॉप लिस्टिंग, 8.62% गिरावट के साथ लिस्ट हुआ शेयर |

महेंद्र प्रताप ने इस मांग के पीछे वजह बताई है असली कृष्ण जन्म भूमि के जो अवशेष है अगर उनसे छेड़छाड़ हो गई तो संपत्ति का चरित्र बदल जाएगा और केस का कोई आधार नहीं रहेगा। बता दें कि हिंदू याचिकाकर्ताओं ने कहा कि ज्ञानवापी मस्जिद में जिस तरह से हिंदू शिवलिंग के अवशेष मिले हैं उनसे स्थिति स्पष्ट हो गई है कि वहां मुस्लिम पक्ष शुरू से ही इसी कारण विरोध करते रहे हैं। यही स्थिति श्री कृष्ण जन्मभूमि की है जो असली गर्भ ग्रह है वहां पर सभी हिंदू धार्मिक अवशेष कमल,शेषनाग,ॐ , स्वास्तिक हिंदू धार्मिक चिन्ह और अवशेष हैं। जिनमें से कुछ को मिटा दिया गया है।

यह भी पढ़े : क्या Lucknow का नाम बदल दिया जायेगा ? CM Yogi के इस Tweet से अटकलें तेज |

हिंदू याचिकाकर्ताओं ने आगे कहा कि अगर हिंदू अवशेषों को मिटा दिया तो कलेक्टर आफ प्रॉपर्टीज चेंज हो जाएंगी और वाद का उद्देश्य और साक्ष्य खत्म हो जाएंगे। ऐसी स्थिति में ईदगाह मस्जिद में सभी का आना जाना प्रतिबंधित कर उस परिसर की उचित सुरक्षा व्यवस्था की जाए या परिसर को सील कर दिया जाए। आपको बता दें इससे पहले इलाहाबाद हाईकोर्ट में वादी मनीष यादव ने श्री कृष्ण जन्मभूमि मंदिर से सटे ईदगाह मस्जिद का कोर्ट कमिश्नर के जरिए सर्वे कराने की मांग की गई थी। मथुरा कोर्ट ने याचिका स्वीकार कर ली है और मामले की सुनवाई 1 जुलाई को होनी है। हालांकि हिंदू याचिकाकर्ताओं ने कोर्ट से जल्द ही इस पर सुनवाई करने की मांग की है। इस खबर में फ़िलहाल इतना ही।

यह भी पढ़े : Gyanvapi Masjid : क्या था ज्ञानवापी मस्जिद पर हाई कोर्ट का 1937 का फैसला ।