बीजेपी मंत्री सनबोर शुल्लई का बेतुका बयान, चिकन, मटन और मछली की तुलना में ज्यादा बीफ खाने की दी नसीहत।

मेघालय की भाजपा सरकार के मंत्री सनबोर शुल्लई ने एक बेतुका बयान दिया है। सनबोर शुल्लई ने शनिवार को अपने राज्य के लोगों को चिकन, मटन और मछली से ज्यादा बीफ खाने की नसीहत दे डाली। आपको बता दें मेघालय सरकार में सनबोर शुल्लई पशुपालन और पशु चिकित्सा मंत्री हैं।

सनबोर शुल्लई

यह भी पढ़े: गृह मंत्री अमित शाह का यूपी दौरा, आज गुजारेंगे मिर्जापुर में 2 घंटे, कार्यक्रम का पूरा विवरण यहां देखें।

सनबोर शुल्लई का क्या है पूरा बयान ?

सनबोर शुल्लई अपने बयान में कहा चिकन, मटन और मछली से ज्यादा बीफ खाने के लिए लोगों को प्रेरित करें। इससे अल्पसंख्यक समुदाय के लोगों में यह धारणा दूर हो जाएगी कि भाजपा गौ हत्या पर प्रतिबंध लगाने वाली है। आपको बता दें पिछले हफ्ते ही सनबोर शुल्लई ने कैबिनेट मंत्री पद की शपथ ली।

यह भी पढ़े: UP BOARD RESULT : यूपी बोर्ड कक्षा दसवीं और बारहवीं का रिजल्ट हुआ जारी, कक्षा दसवीं में 99.55% जबकि 12वी में 97.88% छात्र हुए पास।

समाचार एजेंसी ANI से बातचीत के दौरान उन्होंने कहा कि मैं लोगों को चिकन, मटन और मछली से ज्यादा बीफ खाने के लिए प्रेरित करता हूं, इससे अल्पसंख्यक समुदाय के लोगों में जो गलत धारणा बनी हुई है कि भाजपा गौ हत्या पर प्रतिबंध लगाएगी, यह इस कदम से दूर हो सकती है।

लोकतांत्रिक देश में हर कोई कुछ भी खाने के लिए है स्वतंत्र

सनबोर शुल्लई ने कहा कि हमारा देश एक लोकतांत्रिक देश है। ऐसे में हर कोई कुछ भी खाने के लिए स्वतंत्र है, और जो इच्छा हो वह खा सकता है। सनबोर शुल्लई इतने पर ही नहीं रुके उन्होंने आगे कहा कि वह असम के मुख्यमंत्री हेमंत बिस्वा शर्मा से भी बातचीत करेंगे और यह सुनिश्चित करेंगे कि असम में जो नए गाय कानून बने है उससे मेघालय में मवेशी परिवहन प्रभावित ना हो।

यह भी पढ़े:UP ELECTION 2022 : भाजपा ने यूपी विधानसभा चुनाव के लिए हर जिले में उतारे अपने योद्धा, सभी को जिम्मेदारियां और कार्यक्रम सौपें ।

असम – मेघालय सीमा विवाद पर भी दिया बड़ा बयान

असम मेघालय के बीच बड़े सीमा विवाद के बारे में सनबोर शुल्लई ने कहा कि यही सही समय है कि राज्य सीमा और अपने लोगों को रक्षा के लिए पुलिस फोर्स का इस्तेमाल किया जाए। उन्होंने कहा असम के लोग सीमा क्षेत्रों में अगर हमारे लोगों के साथ उत्पीड़न करते रहेंगे तो ये समय सिर्फ बात करने या चाय पीने का नहीं होगा। हमें जवाब देना है और मौके पर कार्यवाही भी करनी होगी। आगे उन्होंने कहा कि वह हिंसा के समर्थक नहीं है।

यह भी पढ़े: Tokyo olympics 2020:भारत की स्टार टेनिस खिलाड़ी मनिका बत्रा पदक जीतने से बस एक कदम दूर।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *