जम्मू – कश्मीर : डोगरा फ्रंट ने महबूबा मुफ्ती के खिलाफ किया प्रदर्शन।

0
39
डोगरा फ्रंट

जम्मू – कश्मीर में आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सर्वदलीय बैठक करने वाले हैं। इस सर्वदलीय बैठक से पहले पीडीपी मुखिया महबूबा मुफ्ती के खिलाफ विरोध प्रदर्शन शुरू हो गया है। प्रदर्शन में डोगरा फ्रंट के लोगों ने पीडीपी मुखिया के खिलाफ जमकर नारेबाजी की।आपको बता दें इस सर्वदलीय बैठक से ठीक पहले महबूबा मुफ्ती ने गुपकार गठबंधन के नेताओं के साथ बैठक में जम्मू कश्मीर मसले पर पाकिस्तान से बात करने की वकालत की थी।

यह भी पढ़े : IND Vs NZ WTC Final: न्यूजीलैंड बना चैंपियन, कैसे हारा भारत?

डोगरा फ़्रंट का विरोध प्रदर्शन जारी

महबूबा मुफ्ती के इस बयान के बाद से जम्मू में डोगरा फ्रंट ने उनके खिलाफ प्रदर्शन शुरू कर दिया है। इस प्रदर्शन में महबूबा के साथ-साथ उमर अब्दुल्ला और पाकिस्तान के खिलाफ भी नारेबाजी की जा रही है। जम्मू में डोगरा फ्रंट ने उनके खिलाफ प्रदर्शन शुरू कर दिया है। के कार्यकर्ताओं से बातचीत में पता चला कि उन्होंने कहा कि महबूबा मुफ्ती पाकिस्तान की भाषा बोलती हैं और उनके खिलाफ कड़ी कार्यवाही होनी चाहिए।

यह भी पढ़े : उज्जैन में डेल्टा प्लस वेरिएंट से पहली मौत की पुष्टि।

कश्मीर मसले पर पाक से कोई बात नहीं होगी – रविंद्र रैना

भाजपा के रविंद्र रैना पहले ही बता चुके हैं कि पाकिस्तान के साथ जम्मू – कश्मीर के मसले पर कोई बातचीत संभव नहीं है। उन्होंने पाकिस्तान पर आरोप लगाते हुए कहा कि वहां आतंकियों के प्रशिक्षण शिविर लगते हैं । उन्होंने कहा महबूबा मुफ्ती की पाकिस्तान से बातचीत करने की मांग कभी पूरी नहीं की जा सकती। आपको बता दें गुपकार गठबंधन के अध्यक्ष डॉक्टर फारुख अब्दुल्ला भी धारा 370 और राज्य का दर्जा बहाल करने की मांग पीएम से करने चुके हैं।

यह भी पढ़े : अजब गजब फरमान – वैक्सीन लेने से किया मना तो जाना पड़ेगा जेल -फिलीपींस के राष्ट्रपति रोड्रिगो दुर्तेते ।

पीएम से खुल कर करुँगी बात – महबूबा मुफ़्ती

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के द्वारा बुलाई गई सर्वदलीय बैठक में पीडीपी प्रमुख महबूबा मुफ्ती बुधवार को ही दिल्ली पहुंच गई थी। उन्होंने कहा कि वे खुले मन से प्रधानमंत्री मोदी से बात करेंगी। इस बैठक को मद्देनजर रखते हुए घाटी में सुरक्षा एजेंसियों को अलर्ट पर रखा गया है। कुछ सूत्रों के अनुसार जम्मू – कश्मीर में 48 घंटे में सुरक्षाबलों पर ग्रेनेड हमले तथा हथियार लूटने की घटनाओं को अंजाम देने की तैयारी आतंकियों द्वारा की जा रही है। इस इनपुट के बाद ही सभी सुरक्षा एजेंसियों को अलर्ट पर रहने को कहा गया। हाईवे समेत अन्य सड़कों पर नाकेबंदी बढ़ा दी गई है और वाहन की चेकिंग हर जगह की जा रही है। सभी जवानों को ड्यूटी के दौरान पूरी मुस्तैदी के साथ रहने को कहा गया है।

यह भी पढ़े : शरद पवार के घर हो रही बैठक का क्या है एजेंडा ?