जम्मू – कश्मीर में राजनीतिक हलचल, महबूबा मुफ्ती ने पीएम मोदी के न्योता के बाद बुलाई बैठक।

धारा 370 जब से जम्मू कश्मीर में हटी है उसके बाद से राजनीतिक अस्थिरता देखने को मिली। इस राजनीतिक अस्थिरता को अब दूर करने की उम्मीद दिख रही है। 24 जून को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जम्मू कश्मीर के सभी राजनीतिक पार्टियों के नेताओं को एक मीटिंग पर बुलाया है। सूत्रों के हवाले से आई खबर के अनुसार अनौपचारिक रूप से  नेताओं को न्योता दिया जा चुका है। जम्मू कश्मीर की पीडीपी पार्टी की प्रमुख महबूबा मुफ्ती ने इंडिया टुडे से न्योता मिलने की पुष्टि की।

24 जून को होगी पीएम के साथ मीटिंग

पीडीपी प्रमुख महबूबा मुफ्ती ने बताया कि उन्हें अनौपचारिक रूप से मीटिंग में शामिल होने का न्योता मिला है। महबूबा मुफ्ती इस नियुक्ति को लेकर पार्टी के अन्य नेताओं के साथ चर्चा कर रही हैं। सूत्रों के अनुसार महबूबा मुफ्ती रविवार को पीडीपी के अन्य नेताओं के साथ बैठक कर सकती हैं। इस बैठक में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ 24 जून को होने वाली मीटिंग पर शामिल होने को लेकर चर्चा होने की उम्मीद है। इस मीटिंग के बाद साफ हो जाएगा कि पीडीपी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की इस बैठक में शामिल होगी या नहीं होगी।

यह भी पढ़े : CBSE BOARD की मार्किंग स्कीम से खुश नहीं है छात्र, सुप्रीम कोर्ट में दायर की याचिका।

किस मुद्दे पर होंगी चर्चा ?

ऐसा माना जा रहा है कि जम्मू कश्मीर को फिर से पूर्ण राज्य का दर्जा बहाल करने के लिए और अन्य दूसरे जरूरी मुद्दों पर चर्चा पीएम की मीटिंग में हो सकते हैं। जम्मू कश्मीर के एक सीनियर ने बताया कि अभी उन्हें पता नहीं है कि किस बारे में मीटिंग है लेकिन औपचारिक निमंत्रण का इंतजार करेंगे और उसके बाद कोई फैसला लिया जाएगा।

यह भी पढ़े : ट्वीटर और सरकार के बीच तनातनी बढ़ी, कंपनी के अधिकारी ने दर्ज कराया अपना बयान।

जम्मू कश्मीर कांग्रेस के अध्यक्ष जिए मीर ने बताया कि अब तक उन्हें पीएम के साथ होने वाली मीटिंग के बारे में कोई जानकारी नहीं है। उन्होंने आगे कहा ऑल पार्टी मीटिंग को लेकर कोई जानकारी नहीं है। अगर हमें न्योता दिया जाता है तो हम राष्ट्रीय नेताओं को बताएंगे। इसके बाद सलाह मशविरा कर लिया जाएगा।

यह भी पढ़े : भारत vs न्यूजीलैंड WTC फाइनल मुकाबला 2021

गृहमंत्री के साथ अजित डोभाल कि बैठक

आपको बता दें शुक्रवार को गृह मंत्री अमित शाह ने एनएसए अजीत डोभाल और जम्मू कश्मीर के एलजी मनोज सिन्हा के साथ-साथ अन्य टॉप सिक्योरिटी इंटेलिजेंस के अधिकारियों के साथ बातचीत एक मीटिंग में की। आपको बता दें 5 अगस्त 2019 को जम्मू कश्मीर से धारा 370 को हटा दिया गया था और इसके साथ ही जम्मू – कश्मीर और लद्दाख को दो अलग-अलग केंद्र शासित प्रदेश बनाया गया था। इस फैसले के बाद से ही घाटी में राजनीतिक अस्थिरता का माहौल बना हुआ है। उम्मीद है प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के इस मीटिंग के बाद यह अस्थिरता खत्म हो जाएगी।

यह भी पढ़े : ZEBRONICS की स्मार्ट वाच Zebronics ZEB-FIT4220CH कालिंग फीचर्स के साथ हुई लांच ,कीमत है बेहद कम।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *