US के फैसले से रूसी S-400 Missile का India में रास्ता साफ |

अमेरिका कें प्रतिनिधि सभा नें भारत को रूस सें S-400 मिसाइल डिफेंस सिस्टम खरीदने के लिए CAATSA सैंक्शन से खास छूट दिलाने वाले एक संशोधित विधेयक को बृहस्पतिवार को पारित कर दिया। भारतीय अमेरिकी सांसद रो खन्ना द्वारा पेश किए गए इस संशोधित विधेयक में अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडेन कें प्रशासन से भारत कों चीन जैसे आक्रामक रुख रखने वाले देश को रोकने में मदद करने के लिए काउंटरिंग अमेरिकाज एडवर्सरीज थ्रू सैंक्शन एक्ट जैसे कि CAATSA सें छूट दिलाने के लिए अपने अधिकार का इस्तेमाल करने का अनुरोध किया गया है।

दुश्मनों पर ऐसे बरसेगा कहर आ रही है S-400 मिसाइल

राष्ट्रीय रक्षा प्राधिकरण कानून NDAA पर सदन में चर्चा के दौरान ध्वनि मत से यह संशोधित विधेयक पारित कर दिया गया। खन्ना ने कहा अमेरिका को चीन के बढ़ते आक्रामक रुख के मद्देनजर भारत के साथ खड़ा रहना चाहिए। भारत को कास्ट उपाध्यक्ष के तौर पर हमारे देशों कें बीच भागीदारी को मजबूत करने और यह सुनिश्चित करने पर काम कर रहा हूं कि भारतीय चीन सीमा पर भारत अपनी रक्षा कर सकें। इसके साथ उन्होंने कहा कि यह संशोधन बहुत महत्वपूर्ण है और मैं अमेरिकी संसद में पार्टी लाइन से ऊपर उठकर पास के जाने पर गर्व महसूस कर रहा हूं। यह कानून 2017 में लाया गया था और इसमें ऐसे किसी भी देश पर प्रतिबंध लगाने के प्रावधान है जो रूसी हथियारों और खुफिया सेक्टर में उसे डील करे।

CAATSA क्या है ?

आपको बता दें CAATSA अमेरिका का सख्त कानून है जो अमेरिकी प्रशासन को यह अधिकार देता है कि वों रूस से बढ़ी रक्षा सामग्री खरीदने वाले देशों पर प्रतिबंध लगा सके। रूस द्वारा 2014 में यूक्रेन से क्रीमिया छीन लेने के बाद और 2016 में अमेरिकी राष्ट्रपति चुनावों में कथित रूसी हस्तक्षेप के बाद यह कानून लाया गया था। इसके साथ ही आपको बता दें कि साल 2017 में पेश CAATSA के तहत रूस से रक्षा खुफिया लेनदेन करने वाले किसी भी देश के खिलाफ कार्रवाई करने का प्रावधान है।