दिल्ली को खोलने कि तैयारी शुरू, फिर भी केजरीवाल से नाराज क्यों है व्यापारी ?

कोरोना के मामले अब देश कि राजधानी दिल्ली में काम होते हुए नजर आ रहे है ऐसे में पिछले एक महीने से बंद दिल्ली को खोलने का एलान मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल ने कर दिया है। केजरीवाल ने बताया कि बड़ी मेहनत से हमने कोरोना को काबू में किया है। लेकिन इसका मतलब ये नहीं है हम लड़ाई जीत गए है। केजरीवाल ने कहा हम दिल्ली को धीरे -धीरे खोलेंगे और सबसे पहले हम उन लोगो को ध्यान दे रहे है जो गरीब तबके के लोग है प्रवासी लोग और मजदुर को हम सबसे पहले ध्यान में रख रहे है। इसलिए सबसे पहले कंस्ट्रक्शन का काम शुरू होगा और इसके साथ फैक्ट्री कि गतिविधियों को अनुमति दी जायेगी।

अगले हफ्ते के लिए ये दोनों सेक्टर खुले रहेंगे। केजरीवाल ने आगे कहा कि हम जनता के सुझाव और अपने एक्सपर्ट कि राय को मानते हुए हफ्ता दर हफ्ता लॉकडाउन को खोलेंगे। लेकिन शर्त ये है कि दिल्ली के सभी लोगो को कोरोना के नियमों का पालन कड़ाई से करना होगा। अगर कही बीच में लगा कि कोरोना के मामले फिर बढ़ने लगे है तो हमें मजबूरन फिर अनलॉक कि प्रक्रिया को रोकना पड़ेगा।

केजरीवाल ने कहा हम नहीं चाहते कि लॉकडाउन लगा रहे क्योकि ये बिलकुल अच्छी चीज नहीं है लेकिन आगे मामले बढे तो हमें फिर ये कदम उठाना पड़ेगा। केजरीवाल ने आगे कहा कि आगे बेहद जरूरी न हो तो घर से बाहर न निकले। अभी भी समय नाजुक है थोड़ी सी लापरवाही भी भरी पड़ सकती है। हम सभी मिलकर ही दिल्ली और देश को बचा सकते है। कोरोना के नियमों कि अनदेखी बिलकुल नहीं करनी है और हमें सतर्क रहना है।

सरकार के इस अनलॉक के फैसले से दिल्ली के व्यापरी नाखुश है। कॉन्फ़ेडरेशन ऑफ़ ऑल इंडिया ट्रेडर्स ने बताया कि कोरोना के मामले न बढ़े ये सिर्फ सरकार कि ही नहीं बल्कि व्यापारियों कि भी प्राथमिकता है। लेकिन बाजारों का न खोला जाना ये बात हम लोगो को कुछ समझ नहीं आई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *