Meerut : डीन बनने की चाहत में प्रोफेसर Aarti Bhatele ने वेटरनरी कॉलेज के डीन पर जानलेवा हमले की रची साजिश।

0
358

उत्तर प्रदेश के मेरठ में स्थित सरदार वल्लभभाई पटेल कृषि एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के वेटरनरी कॉलेज के डीन डॉ राजवीर सिंह पर जानलेवा हमले को लेकर मेरठ पुलिस ने सोमवार को सनसनीखेज खुलासा किया है। मेरठ के एसएसपी प्रभाकर चौधरी ने प्रेस वार्ता के दौरान बताया कि कृषि विश्वविद्यालय की वेटरनरी कॉलेज में प्रोफेसर के पद पर कार्यरत आरती भटेले (Aarti Bhatele) और उनके प्रेमी बिल्डर अनिल बालियान ने मिलकर डीन पर जानलेवा हमला कराने की साजिश रची थी।

यह भी पढ़े: Pune Rape Case: पुणे में नाबालिग लड़की से पिता और भाई ने किया रेप, दादा और एक रिश्तेदार भी शामिल।

आरती भाटेले (Aarti Bhatele) ने अपने प्रेमी बिल्डर के साथ मिलकर कुख्यात उधम सिंह के शार्प शूटर आशू चड्ढा को 5 लाख की मोटी रकम देकर  वेटरनरी कॉलेज के डीन पर गोली चलाने की सुपारी दी थी। हमले के बाद से पुलिस ने जांच पड़ताल शुरू की जिसके बाद बिल्डर, शूटर और हत्या की योजना में शामिल मुनेंद्र प्रधान को गिरफ्तार किया गया है। पुलिस ने बताया कि वह महिला प्रोफेसर और दूसरे शूटर नदीम की तलाश अभी भी कर रही है। महिला प्रोफेसर और शूटर नदीम अभी भी पुलिस की पहुंच से बाहर है। पुलिस इन दोनों की तलाश में लगातार दबिश दे रही है।

Aarti Bhatele

क्या है पूरा मामला ?

11 मार्च को वेटरनरी डीन प्रोफेसर राजवीर सिंह कृषि विश्वविद्यालय से निजी कार से अपने घर कंकरखेड़ा में डिफेंस एंक्लेव जा रहे थे। कॉलेज से निकलने से थोड़ी दूर मोदीपुरम स्थित पबरसा  मोड पर दो अज्ञात बदमाशों ने उनकी कार पर ताबड़तोड़ गोलियां चलाई थी। इस गोली बारी में डीन को 8 गोलियां लगी थी जिसके बाद उनको अस्पताल में भर्ती कराया गया जहां इलाज चल रहा है।

यह भी पढ़े: The Kashmir Files – विवादों और विवादित बयानों से घिरी है विवेक अग्निहोत्री की फिल्म।

एसएसपी ने बातचीत के दौरान बताया कि दौराला पुलिस और एसओजी की पूरी टीम रविवार रात इस मामले को लेकर अंकित बालियान, मुनेंद्र बाना और आशु चड्ढा उर्फ मोंटी चड्ढा को गिरफ्तार किया। पुलिस ने इस बात का खुलासा करते हुए बताया की आरोपी अनिल बालियान पेशे से एक बिल्डर है।

2014 में अनिल की Aarti Bhatele से हुई थी मुलाकात

अनिल ने पुलिस को जानकारी दी कि उनकी बेटी आकांक्षा का एडमिशन 2014 में बीएससी एग्रीकल्चर के पाठ्यक्रम में सरदार वल्लभभाई पटेल कृषि विश्वविद्यालय में कराने गए थे। बेटी के एडमिशन के दौरान उनकी मुलाकात प्रोफेसर आरती भटेले (Aarti Bhatele) से हुई। धीरे-धीरे इनकी दोस्ती प्यार में बदली और आरती और अनिल बालियान के बीच दोस्ती प्रेम प्रसंग में बदल गया।

Aarti Bhatele को डीन बनने की थी चाहत 

आरती भटेले (Aarti Bhatele) वेटनरी कॉलेज की डीन बनना चाहती थी और इसके चलते अपने प्रेमी दोस्त अनिल के साथ मिलकर इन वेटरनरी के डीन की हत्या का योजना बनाई थी। आरोपी अनिल ने बताया कि इस पूरे साजिश में अपने दोस्त मुनेंद्र को भी शामिल किया। आँशु  चड्ढा मुनेंद्र का फुफेरा भाई है। आँशु  चड्ढा कुख्यात उधम सिंह के गैंग में शार्प शूटर के तौर पर काम कर चुका है।

यह भी पढ़े:  Rajasthan Rape Case : जयपुर में मसाज के नाम पर 45 वर्षीय विदेशी महिला से हुआ रेप, केस दर्ज।

खबरों के मुताबिक डासना जेल से आँशु 9 फरवरी को जमानत पर बाहर आया है। मुनेंद्र के घर पर 4 मार्च को आँशु चड्ढा, बिल्डर अनिल बालियान व नदीम की मीटिंग भी हुई थी। इस मीटिंग के दौरान हत्या करने के लिए ₹500000 की मोटी रकम आँशु को दी गई थी। नदीम और आँशु ने सटीक रेकी करने के बाद 11 मार्च को डीन पर शाम करीब 5:00 बजे अंधाधुंध फायरिंग की थी। पुलिस ने आरोपियों की निशानदेही पर एक पिस्टल, वारदात में इस्तेमाल की गई बाइक, एक तमंचा व सुपारी के लिए दी गई 500000 रकम में से चार लाख की बरामदगी कर ली है। पुलिस टीम को एसएसपी ने ₹25000 का इनाम भी दिया है।

यह भी पढ़े:  UP Election 2022: CM Yogi की Social-Engineering को गहराई से समझें