अर्श से फर्श पर आये पहलवान सुशील कुमार,छत्रसाल मर्डर केस में हुए गिरफ्तार।

सुशील कुमार एक ऐसा नाम जिसको सुनते ही हर भारतीय का गर्व से सीना चौड़ा हो जाता है। न जाने कितने लड़के उनको अपना रोले मॉडल मान कर कुश्ती कि दुनिया में कदम रखने का फैसला किये होंगे। लेकिन सुशील कुमार ने अपनी गलती से इन सबकी उम्मीदों पर पानी फेर दिया है। कहा जाता है न विनास काले विपरीत बुद्धि वही हुआ भी सुशील कुमार के साथ। अच्छा खासा भविष्य उन्होंने बर्बाद कर लिया।

आइये बात करते है आखिर सुशील कुमार को गिरफ्तार क्यों किया गया है ?

दरअसल बात बीते 4 मई कि है। 4 मई कि देर रात सुशील और उनके दोस्त अजय कुछ साथियों के साथ मॉडल टाउन ठाणे के इलाके में से एक सागर नाम के व्यक्ति और उसके दोस्त को बन्दुक कि नोक पर किडनैप कर छत्रसाल स्टेडियम कि पार्किंग में ले जाते है । वहां ले जाने के बाद पिटाई करते है मारपीट के दौरान ही सागर हो गोली लग जाती है जिसकी मृत्यु हो गयी।

इस मामले पर पुलिस ने बताया कि उसको एक CCTV फुटेज मिली है जिसमे सुशील कुमार एक हॉकी स्टिक से सागर और उसके साथियों को मारते हुए दिख रहे है। इस मारपीट में 2 पहलवानों के गुट शामिल है और दोनों गुटों में झड़प हुई और उसमे गोली चली जो सागर को लगी। उसके बाद सागर ने अस्पताल में दम तोड़ दिया। बाकि अन्य 5 पहलवान घायल हो गए थे। बताया जा रहा है सागर जिस घर में रहता था उस घर को सुशील खली करवाने का दबाव सागर पर बना रहे थे। सागर भी एक पहलवान है और उसके पिता दिल्ली पुलिस में कांस्टेबल है।

वही एक रिपोर्ट में लिखा था कि सागर ने सुशील को बदमाश कह दिया था जिससे सुशील नाराज थे और उनको लग रहा था सागर उनकी छवि खराब कर रहा है। इसलिए वो सागर को सबक सीखना चाह रहे थे। जब पुलिस छत्रसाल के घटना अस्थल पर गयी तो उसको 5 गाड़िया मिली जिसमे एक लोडेड डबल बैरल गन और 3 जिन्दा कारतूस मिला। इस घटना के 7 घंटे बाद ही पुलिस ने FIR दर्ज कर सुशील को खोजना शुरू कर दिया लेकिन सुशील गायब हो गए थे। इसलिए दिल्ली पुलिस ने उनको भगोड़ा करार देते हुए उनके ऊपर 1 लाख का इनाम भी रखा था। आखिर बकरी कि अम्मा कब तक खैर मनाएगी ,आज सुशील को दिल्ली पुलिस कि एक स्पेशल टीम ने गिरफ्तार कर ही लिया है।

गिरफ्तार करने के बाद दिल्ली पुलिस कि स्पेशल टीम सुशील को ले जाती हुए। देखे वीडियो –

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *