हिंदी दिवस,2021 के मौके पर PM मोदी ने किया राजा महेन्द्र प्रताप सिंह राज्य विश्वविद्यालय का शिलान्यास ।

हिंदी दिवस 2021 : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज के दिन 12 बजे उत्तर प्रदेश के एक नए विश्वविद्यालय का शिलान्यास करने पहुंचे। हिंदी दिवस के मौके पर प्रधानमंत्री मोदी ने राजा महेन्द्र प्रताप सिंह राज्य विश्वविद्यालय का शिलान्यास तथा उत्तर प्रदेश के डिफेंस कॉरिडोर के कार्य की समीक्षा की।

शिक्षा को लेकर मोदी ने क्या कहा ?

मोदी ने कहा शिक्षा को लेकर सरकार ने कई नए कदम उठाये है। नई शिक्षा नीति को लागू करना जिससे लोगो को अपनी मातृभाषा में शिक्षा मिल सके। कई नए विश्यविद्यालयो की स्थापना किया गया जिससे युवाओ को बेहतर भविष्य मिल सके। तथा उत्तर प्रदेश के विकास को लेकर मुख्यमंत्री योगी की प्रसंशा की ।

हिंदी दिवस पर PM मोदी
हिंदी दिवस पर PM मोदी

यह भी पढ़े: Yogi Adityanath के खिलाफ कोर्ट में दायर हुई याचिका, अब्बाजान शब्द के इस्तेमाल करने से योगी आदित्यनाथ की बढ़ सकती है मुसीबत।

हिंदी को भारत में कब राजभाषा के रूप में अपनाया गया।

आज हमारे पूरे देश में हिंदी दिवस बहुत ही उत्सुकता से मनाया जा रहा है। यह प्रत्येक वर्ष 14 सिप्टेम्बर को मनाया जाता है। हिंदी को सन 1949 ,आज ही दिन संविधान सभा में देवनागरी लिपि में में लिखी गयी हिंदी को पूरे देश में राजभाषा के रूप में स्वाविकार किया गया। हिंदी पूरे दुनिया में सबसे अधिक बोली जाने वाली भाषाओं में से एक है जो की 500 मिलियन से अधिक लोग बोलते है। आज हिंदी को अंतर्राष्ट्रीय मंचो पर खूब सराहा जा रहा है।

यह भी पढ़े: Covishield Vaccine लेने वालों के अंदर दिख रहे है 4 नए Side effects, AstraZeneca के विषेशज्ञों ने चेताया, इन लक्षणों को न करे अनदेखा।

राजभाषा हिंदी दिवस के अवसर पर अमितशाह ने कहा ‘हर प्रदेश का इतिहास का अनुवाद राजभाषा में होना चाहिए।


हिंदी दिवस के मौके पर देश के गृहमंत्री अमितशाह ने लाइव सम्बोधन करते हुए कहा की हर प्रदेश या राज्य का इतिहास देश की राजभाषा हिंदी में होना चाहिए जिससे की उस राज्य के इतिहास को पूरा देश पढ़ सके। इस पर गुरु रविंद्रनाथ टैगोर ने भी कहा था की हिंदी एक कमल की तरह है जिसकी प्रत्येक पंखुड़ी हमारी स्थानीय भाषा तथा कमल हमारी राजभाषा है। तथा गृह मंत्री जी ने कहा देश की संकल्पना में आत्मनिर्भर शब्द सिर्फ उत्पादन व वाणिज्यिक व्यवस्थाओं के लिए नहीं है , हमें भाषा के क्षेत्र में भी आत्मनिर्भर बनना होगा।

यह भी पढ़े: Yogi Adityanath के खिलाफ कोर्ट में दायर हुई याचिका, अब्बाजान शब्द के इस्तेमाल करने से योगी आदित्यनाथ की बढ़ सकती है मुसीबत।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *