जॉनसन एंड जॉनसन : भारत में आपात इस्तेमाल के लिए जॉनसन एंड जॉनसन ने मांगी भारत सरकार से मंजूरी, इसकी एक ही डोज है पर्याप्त।

जॉनसन एंड जॉनसन की यह वैक्सीन सिंगल डोज वैक्सीन होगी

भारत में कोरोना के खिलाफ चल रही जंग में एक और वैक्सीन का नाम जुड़ सकता है। अमेरिकी फार्मा कंपनी जॉनसन एंड जॉनसन ने भारत सरकार से अपनी वैक्सीन को आपात इस्तेमाल की मंजूरी मांगी। जॉनसन एंड जॉनसन द्वारा बनाई गई वैक्सीन की सबसे बड़ी खासियत यह है कि यह सिंगल डोज वैक्सीन होगी। इसका सीधा मतलब है कि इस वैक्सीन की एक ही डोज  कोरोना से लड़ने के लिए काफी है।

जॉनसन एंड जॉनसन

यह भी पढ़े: सुप्रीम कोर्ट ने RELIANCE AND FUTURE GROUP को दिया बड़ा झटका, अमेजॉन के हक में सुनाया फैसला, जाने पूरी कहानी।

भारत सरकार ने अबतक सिर्फ 3 वैक्सीन को दी है मंजूरी

आपको बता दें भारत में अब तक जितनी भी कोरोना की वैक्सीन इस्तेमाल हो रहे हैं उन सभी में डबल डोज वैक्सीन लेने की आवश्यकता है। भारत सरकार अगर जॉनसन एंड जॉनसन की मंजूरी को देती है, तो यह चौथी वैक्सीन होगी जो भारत में इस्तेमाल होगी। इससे पहले भारत सरकार ने भारत बायोटेक की कोवैक्सीन कोविशिल्ड और रूस की बनाई हुई SPUTNIK V को इस्तेमाल करने के लिए मंजूरी दी है।

यह भी पढ़े: भारत के द्वारा बनाया गया पहला स्वदेशी एयरक्राफ्ट कैरियर INS VIKRANT ,इससे नौ सैना में आएगी और भी मजबूती I

भारत में वैक्सीन लेने वालों के क्या है आंकड़े?

भारत में टीकाकरण अभियान चल रहा है जिसमें इन तीनों वैक्सीन का इस्तेमाल किया जा रहा है। इन तीनों वैक्सीन के इस्तेमाल से भारत में अब तक 50 करोड़ से ज्यादा लोगों को वैक्सीन लग चुकी है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के द्वारा दिए गए आंकड़ों के मुताबिक 49.5 करोड़ लोगों का टीकाकरण अब तक हो चुका था है।

यह भी पढ़े: राजीव गांधी का नाम खेल रत्न पुरस्कार से हटा, हॉकी के जादूगर MAJOR DHYAN CHAND के नाम से अब दिया जाएगा खेल रत्न पुरस्कार।

स्वास्थ्य मंत्रालय के द्वारा गुरुवार को शाम में जारी किए गए आंकड़ों के अनुसार देश में कुल 50.29 लोगों को वैक्सीन दिया जा चुका है जिसमें 18 से 44 साल की उम्र वाले लोगों का संख्या 16.2 करोड़ है जो पहली खुराक ले चुके हैं तो वहीं 1.07 करोड़ लोगों को दोनों खुराक की दौड़ लगाई जा चुकी है।

यह भी पढ़े: जंतर मंतर पर राजनीति : किसानों के समर्थन में राहुल गांधी पहुंचे जंतर मंतर, कहा काले कृषि कानूनों को वापस ले सरकार ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *