Political Drama : एक फोन कॉल ने कैसे छीना 12 मंत्रियों का पद? कैबिनेट विस्तार (Modi Cabinet Expansion) से ठीक पहले पर्दे के पीछे चले हंटर की पूरी कहानी।

0
50
(Modi Cabinet Expansion)

बीते 2 दिन पहले यानी कि 7 जुलाई को शाम 6:30 बजे मोदी सरकार के कैबिनेट का विस्तार (Modi Cabinet Expansion) हुआ। इस मोदी कैबिनेट के मंत्रिमंडल के विस्तार (Modi Cabinet Expansion) होने से ठीक पहले 12 मंत्रियों ने एक के बाद एक धड़ाधड़ इस्तीफा दिया था। उस स्थिति के पीछे सिर्फ एक फोन कॉल थी। हम बताएंगे कि वह फोन कॉल किसने किसको किया था जिसके बाद एक – एक करके 12 मंत्रियों ने इस्तीफा दे दिया।

यह भी पढ़े: Modi Cabinet Expansion List : किसको मिला कौन सा मंत्रालय ? देखे पूरी सूची ।

जेपी नड्डा ने घुमाया फ़ोन मंत्रियों को देना पड़ा इस्तीफा

मोदी की कैबिनेट में हुए फेरबदल में कुछ नए चेहरे शामिल हुए और कुछ पुराने मंत्रियों को प्रमोशन भी मिला है। लेकिन मंत्रिमंडल से कुछ मंत्रियों को बाहर का भी रास्ता दिखाया गया। बाहर का रास्ता दिखाने में जिस शख्स का एक फोन कॉल गया था वह कोई और नहीं भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा का फोन कौन था। मोदी सरकार के कैबिनेट विस्तार से ठीक पहले जेपी नड्डा ने ही मंत्रियों को फोन किया और इस्तीफा देने के लिए कहा था। जिन मंत्रियों को फोन गए उनमें वरिष्ठ केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद, हर्षवर्धन, प्रकाश जावड़ेकर, रमेश पोखरियाल निशंक समेत 12 मंत्रियों को इस्तीफा देने के लिए कहा गया।

(Modi Cabinet Expansion)

वरिष्ठ साथियों को दिखाया बाहर का रास्ता

सूत्रों के मुताबिक मिली खबर के अनुसार जब प्रधानमंत्री मोदी ने बुधवार को अपने कैबिनेट में फेरबदल (Modi Cabinet Expansion) के दौरान तैयारी करनी शुरू की तो जेपी नड्डा अपने फोन के साथ बैठ गए। पीएम मोदी इस अपनी कैबिनेट विस्तार में कुछ नए चेहरे शामिल करने वाले थे और कुछ मंत्रियों को प्रमोशन देना था। लेकिन नए चेहरों को शामिल करने से पहले अपने कुछ पुराने और वरिष्ठ मंत्रियों की छुट्टी करने भी थे। इसलिए इन मंत्रियों और अपने साथियों को छुट्टी देने के लिए इस्तीफा मांगना जरूरी था।

यह भी पढ़े: UP Board Result 2021 : यूपी बोर्ड कक्षा 10वीं और 12वीं के कब आएंगे नतीजे? बिना परीक्षा के कैसे दिए जा रहे हैं नंबर?हर सवालों के जवाब यहां जाने।

अपने वरिष्ठ साथियों और इन मंत्रियों से इस्तीफा लेने की जिम्मेदारी भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने खुद निभाई और इन मंत्रियों को एक-एक कर फोन किया और इस्तीफा देने के लिए कहा। जेपी नड्डा इस जिम्मेदारी को इसलिए निभाया क्योंकि उनका एक फोन कॉल ही इन मंत्रियों के इस्तीफा के लिए काफी था।

जेपी नड्डा ने सबसे पहले किस मंत्री को किया था फोन?

कैबिनेट विस्तार (Modi Cabinet Expansion) का समय शाम 6:00 बजे था। मोदी कैबिनेट विस्तार से पहले ही जेपी नड्डा ने सुबह से एक-एक कर 12 मंत्रियों को फोन घुमाया और उनसे इस्तीफा देने की बात कही। जिन भी मंत्रियों को नड्डा ने फोन किया उन्हें कहा कि जल्द से जल्द अपना इस्तीफा राष्ट्रपति भवन भेज दें।

सबसे पहला फोन जल संसाधन मंत्री को गया

जेपी नड्डा ने इन 12 मंत्रियों में से सबसे पहले जल संसाधन मंत्री रतनलाल कटारिया को किया था। इसके बाद एक-एक कर जेपी नड्डा ने इन 12 मंत्रियों को फोन किया। इन सभी मंत्रियों ने एक-एक कर अपना इस्तीफा राष्ट्रपति भवन भेजा जिनको शपथ ग्रहण समारोह से पहले ही मंजूरी मिल जाती है।

यह भी पढ़े: COVAXIN : कोवैक्सीन को जल्द मिल सकती है ग्लोबल अप्रूवल !

कुछ मंत्री इस्तीफे के बाद दुखी भी नजर आए। इन 12 मंत्रियों में से बाबुल सुप्रियो ने भी इस्तीफा दिया और उन्होंने अपने फेसबुक पर लिखा कि मैं अपने लिए दुखी हूं मुझ से इस्तीफा देने को कहा गया तो मैंने दे दिया। सूत्रों के अनुसार मिली खबर के मुताबिक बाबुल सुप्रियो इस बात से दुखी हैं कि उन्हें बिना कारण बताए इस्तीफा देने को कहा गया है।

जिन 12 मंत्रियों ने दिया इस्तीफा उनकी सूची देखें।

जिन मंत्रियों को इस्तीफा देने के लिए कहा गया था उनमें रविशंकर प्रसाद, प्रकाश जावड़ेकर, डॉक्टर हर्षवर्धन, रमेश पोखरियाल निशंक, संतोष गंगवार, सदानंद गौड़ा, प्रताप सारंगी, संजय धोत्रे, बाबुल सुप्रियो, रतनलाल कटारिया, देबाश्री, राव साहेब दानवे पाटील का नाम शामिल था।

यह भी पढ़े: China की चाल : चीन के कर्ज तले दबा एक और देश, दिवालिया होने की नौबत, उसकी जमीन पर कब्जा कर सकता है ड्रैगन।