फेरबदल : मोदी के कैबिनेट विस्तार से पहले बदले गए 8 राज्यों के राज्यपाल।

0
34
Modi Cabinet Resuffle

देश में पहली बार ऐसा हुआ है की एक साथ 8 राज्यपालों को बदल दिया गया हो। इससे पहले 2018 अगस्त में 7 राज्यों के एक साथ राज्यपाल बदले गए थे। मोदी सरकार की कैबिनेट विस्तार से ठीक 1 दिन पहले मंगलवार के दिन देश के राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने एक साथ 8 राज्यपालों को बदल दिया। 8 राज्यपालों में से 4 का ट्रांसफर हुआ जबकि 4 नए गवर्नर चुने गए है।

यह भी पढ़े:  CoWin Global Conclave 2021 : पीएम मोदी ने कहा विश्व के लिए चुनौती है कोरोना महामारी।

केंद्रीय मंत्री थावरचंद गहलोत को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने कर्नाटक के राज्यपाल के रूप में नियुक्त किया है। राष्ट्रपति कोविंद ने मध्य प्रदेश हिमाचल प्रदेश कर्नाटक समेत आठ राज्यों के नए राज्यपाल नियुक्त किये है। ऐसा मन जा रहा है मोदी कैबिनेट विस्तार 7 जुलाई को कर सकते है।सूत्रों के मुताबिक कैबिनेट में अभी 28 मंत्री पद खाली है जिसमे 22 मंत्रियों को सपथ दिलाया जा सकता है। सूत्रों के हवाले से आई खबर के अनुसार कल यानी बुधवार को सुबह 11 बजे इन मंत्रियों को सपथ दिलाया जाएगा।

यह भी पढ़े:  Drone Attack : आसमान में उड़ती आफत पर वायु सेना मुस्तैद ,कश्मीर में उड़ते ड्रोन देश के लिए सबसे बड़ा खतरा।

 

 

आइए जानते हैं किस राज्य में किसको राज्यपाल बनाया गया है।

1. मध्य प्रदेश के नए राज्यपाल मंगूभाई छगनभाई पटेल को बनाया गया है।

2. थावरचंद गहलोत पहले केंद्रीय मंत्री थे लेकिन उनको कर्नाटक के राज्यपाल के रूप में नियुक्त किया गया है।

3. रमेश बैस त्रिपुरा के राज्यपाल थे जो अब झारखंड के राज्यपाल बनाए गए हैं।

4. बंडारू दत्तात्रेय हरियाणा के राज्यपाल होंगे जबकि यह पहले हिमाचल प्रदेश के गवर्नर।

यह भी पढ़े:  IPL 2021: MS Dhoni की कप्तानी वाली CSK के लिए नई मुसीबत हुई खड़ी।

5. सत्यदेव नारायण आर्य इनको त्रिपुरा से हटाकर हरियाणा का राज्यपाल बनाया गया है।

6. राजेंद्र विश्वनाथ आरलेकर हिमाचल के नए राज्यपाल होंगे।

7. पीएएस श्रीधरन पिल्लई को मिजोरम से हटाकर अब गोवा का गवर्नर बना दिया गया है।

8. हरी बाबू कम्भमपति मिजोरम के राज्यपाल के रूप में नियुक्त हुए हैं।

इन 8 में से 4 को थावरचंद गहलोत, मंगूभाई छगनभाई पटेल, राजेंद्र विश्वनाथ अरलेकर और हरी बाबू कम्भमपति नए राज्यपाल बनाए गए हैं।

यह भी पढ़े:  मिले सुर मेरा तुम्हारा : शिवसेना और बीजेपी के राहे अलग मगर, दोस्ती कायम।