Tokyo Paralympics 2020 : भारत ने जीते 5 गोल्ड समेत कुल 19 मेडल, जाने Tokyo Paralympics का पूरा लेखा जोखा।

2
334
Tokyo Paralympics 2020

Tokyo Paralympics 2020 में भारत ने इस वर्ष धमाकेदार खेल दिखाते हुए इतिहास रच दिया है। भारत ने Tokyo Paralympics 2020 इतिहास में इससे पहले 12 मेडल ही जीते थे। मगर इस साल भारत में न केवल इस आंकड़े की बराबरी की बल्कि 19 मेडल जीतकर नया कीर्तिमान बनाया है। इतना ही नहीं इससे पहले Tokyo Paralympics 2020 में भारत ने सिर्फ चार ही गोल्ड मेडल जीते थे। जबकि इस साल भारत ने पांच गोल्ड मेडल अपने नाम किये है।

यह भी पढ़े: UP Assembly Election से पहले योगी सरकार चल सकती है बड़ा दांव, ला सकती है 1 लाख नौकरियां, जाने कौन सी नौकरियों का मिलेगा तोहफा।

Tokyo Paralympics 2020

Tokyo Paralympics 2020 का आखिरी दिन भारत ने किया गोल्ड मैडल अपने नाम

आज सुबह भी भारत ने Tokyo Paralympics 2020 के आखरी दिन गोल्ड के साथ खत्म किया है। Tokyo Paralympics 2020 में अब भारत 24वें स्थान पर है। Tokyo Paralympics 2020 में भारत का अब तक यह सबसे शानदार प्रदर्शन है।

Tokyo Paralympics 2020 में भारत के इतिहास में रहा इस बार रहा सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन 

टोक्यो पैरालंपिक्स में भारत का इस बार का सबसे सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन रहा है। भारत इससे पहले 1972 से अब तक कुल 12 पदक ही जीते थे। लेकिन इस बार भारत ने रिकॉर्ड बनाते हुए 5 स्वर्ण पदक के साथ कुल 19 मेडल जीते हैं। टोक्यो पैरालंपिक्स का आज आखिरी दिन था और भारत को बैडमिंटन में 2 पदक मिले। इन 2 पदक में से बैडमिंटन में कृष्णा नागर ने स्वर्ण जीता वही गौतमबुद्धनगर के डीएम सुहास एथिराज ने रजत पदक जीत कर अपने नाम किया है।

अंक तालिका में भारत का है 24 वा स्थान

टोक्यो पैरालंपिक में भारत का अंक तालिका में 24 स्थान है जो अब तक के इतिहास में भारत का सबसे सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन है। भारत ने इस बार एथलेटिक्स में आठ, निशानेबाजी में 5, बैडमिंटन में 4, टेबल टेनिस में एक और तीरंदाजी में 1 पदक जीता है। इन सभी पदको की बात करें तो भारत ने 5 गोल्ड, 8 रजत और 6 कांस्य पदक जीते हैं।

यह भी पढ़े:  Rakesh Tikait in Kisan Mahapanchayat : वोट की चोट और अपने ट्रैक्टर को तैयार रखना, राकेश टिकैत के इस बयान का क्या है मतलब ?

चलिए जानते है किन किन किन खिलाड़ियों ने Tokyo Paralympics 2020 में अपने नाम स्वर्ण पदक किया है।

1. अवनि लेंखारा: जिन्होंने ने स्वर्ण पदक अपने नाम किया है। अवनि ने निशानेबाजी के 10 मीटर एयर राइफल मे स्वर्ण पदक जीतकर इस अभियान की शुरुआत की। अवनि लेंखारा भारतीय पैरा ओलंपिक इतिहास की पहली महिला खिलाड़ी है, जिन्होंने पैरा ओलंपिक के इतिहास मे गोल्ड मेडल जीता है।

Tokyo Paralympics 2020

2. सुमित अंतिल: भारत के भाला फेक एथलीट में सुमित ने रिकॉर्ड दर्ज करते हुए भारत को गोल्ड मेडल जिताया है। सुमित ने भी उसी दिन स्वर्ण पदक अपने नाम किया था जब अवनि लेंखारा ने स्वर्ण पदक जीता था। 23 वर्षीय सुमित ने F64 कैटेगरी में रिकॉर्ड 68.5 मीटर दूर भाला फेक कर इतिहास रचा था।

यह भी पढ़े: कोरोना वायरस के बीच आया खरतनाक Nipah Virus का खतरा, जाने इसके लक्षण और बचने के उपाय।

3. मनीष नरवर : गोल्ड मेडल लिस्ट मे यह तीसरा नाम आता है। मनीष नरवल का जिन्होंने शूटिंग मे 50 मीटर पिस्टल Shl मे गोल्ड मेडल जीतकर इतिहास रचा है। महज 19 वर्ष के मनीष ने रिकॉर्ड 218.2 अंक हासिल करके भारत को Tokyo Paralympics 2020 मे तीसरा स्वर्ण पदक जीता है।

4. प्रमोद भगत: इस साल Tokyo Paralympics 2020 में स्वर्ण पदक जीतने वाले प्रमोद भगत सबसे ज्यादा उम्र वाले खिलाड़ी है। प्रमोद पहले भारतीय शटलर है जिन्होंने भारत को बैडमिंटन में पहला स्वर्ण पदक दिलाया है। प्रमोद ने पुरुष एकल प्रतिस्पर्धा में SL3 मे ग्रेट ब्रिटेन की खिलाड़ी को हराकर यह कीर्तिमान अपने नाम किया है।

यह भी पढ़े: NEET UG EXAM 2021 देने से पहले जान ले NTA का ये नया नियम वरना परीक्षा से रह जाएंगे वंचित।

5. कृष्णा नागर: इस श्रेणी में सबसे आखरी एथलीट जिन्होंने ने आज सुबह यानी रविवार को बैडमिंटन में गोल्ड मेडल जीतकर भारत को पांचवा स्वर्ण पदक दिलाया है। कृष्णा नागर ने बैडमिंटन के एसएच 6 के वर्ग मे गोल्ड मेडल जीता है। Tokyo Paralympics 2020 में यह बैडमिंटन के खेल में भारत का दूसरा गोल्ड मेडल है। यह कहना गलत नहीं होगा कि इस साल भारत ने अपनी सारी सीमाओं को तोड़ कर Tokyo Paralympics 2020 का ऐतिहासिक रूप से समापन किया है।

यह भी पढ़े: सिर्फ ₹500 रूपये मे Jio Phone Next होगा आपका!