Nipah Virus Infection : निपाह वायरस पर ANI ने दी गलत खबर, तमिलनाडु में मिला निपाह वायरस की क्या है सच्चाई ?

1
203
Nipah Virus Infection

देश में अभी कोरोना वायरस के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। इसी बीच केरल में Nipah Virus Infection  से एक 12 साल के बच्चे की मौत होने की खबर आई है। केरल में Nipah Virus Infection के मामले अक्सर मिलते रहते हैं। Nipah Virus Infection से बचने और उसके उपाय के बारे में हमने आपको बताया है जिसकी पूरी जानकारी आपको नीचे लिंक से मिल सकती है।

यह भी पढ़े: कोरोना वायरस के बीच आया खरतनाक Nipah Virus का खतरा, जाने इसके लक्षण और बचने के उपाय।

तमिलनाडु में मिला Nipah Virus Infection का मामला 

खबर के मुताबिक अब केरल के बाद एक और राज्य इस Nipah Virus की चपेट में आ गया है। जानकारी के मुताबिक तमिलनाडु में भी Nipah Virus Infection की पुष्टि हुई है। इस खबर की पुष्टि न्यूज़ एजेंसी ANI के मुताबिक की गई है। न्यूज़ एजेंसी ANI ने ट्वीट करते हुए लिखा है कि कोयंबटूर जिले के कंट्रोलर जीएस सिमरन ने बताया कि यहां पर एक Nipah Virus Infection की पुष्टि हुई।

Nipah Virus Infection

जीएस सिमरन के मुताबिक जैसे ही पहला मामला Nipah Virus Infection पाया गया है पूरा स्वास्थ्य विभाग उसके बाद से सतर्क हो गया है। Nipah Virus Infection मिलने के बाद से सभी प्रकार के जरूरी उपायों को अपनाया जा रहा है। कोयंबटूर जिला कंट्रोलर सिमरन के मुताबिक सरकारी अस्पतालों में तेजी से जांच की जा रही है जिसमें बुखार के मरीजों की जांच हो रही है। हालांकि यह खबर बिलकुल गलत है। तमिलनाडु में कोई भी Nipah Virus Infection का कोई भी मामला सामने नहीं आया है। इस खबर को ANI ने सबसे पहले ट्वीट किया था लेकिन अब वो ट्वीट ANI ने हटा दिया है। ANI के द्वारा की गयी ट्वीट की फोटो आप ऊपर देख सकते है। 

केरल में 12 साल के लड़के की Nipah Virus Infection से हुई थी मौत

आपको बता दें केरल में 12 वर्ष से जिस लड़के की मौत Nipah Virus Infection से हुई थी उस लड़के के संपर्क में 188 लोग आए थे। इन 188 में से 2 में वायरस के लक्षण पाए गए हैं। लड़के की मौत के बाद से केंद्रीय टीम ने घर-घर जाकर लोगों के सैंपल इकट्ठा की है।

यह भी पढ़े: Tokyo Paralympics 2020 : भारत ने जीते 5 गोल्ड समेत कुल 19 मेडल, जाने Tokyo Paralympics का पूरा लेखा जोखा।

पहले भी पाया गया था Nipah Virus Infection 

आपको बता दें 2018 में 19 मई को भी Nipah Virus Infection का पहला मामला केरल के जिले कोझिकोड में पाया गया था। आंकड़ों के मुताबिक 1 जून 2018 तक केरल में 17 लोगों की मौत वायरस की वजह से हुई थी और 18 मामलों की पुष्टि हुई थी। 10 जून को ऐलान किया गया कि इसका संक्रमण अब खत्म हो गया है। फिर 1 साल बाद जून के महीने में 2019 में Nipah Virus Infection का मामला पाया गया था। इस Nipah Virus Infection 23 वर्षीय छात्र में पाया गया था। बाद में वो छात्र ठीक हो गया था।

यह भी पढ़े: Rakesh Tikait in Kisan Mahapanchayat : वोट की चोट और अपने ट्रैक्टर को तैयार रखना, राकेश टिकैत के इस बयान का क्या है मतलब ?

क्यों खरतनाक है Nipah Virus Infection ?

Nipah Virus को खतरनाक इसलिए माना जाता है क्योंकि इसका इनक्यूबेशन पीरियड अधिक होता है। संक्रमण से लक्षण दिखने के बीच का समय लगभग 45 दिन लग जाते हैं, और ऐसे में जिस व्यक्ति को संक्रमण होता है वह अन्य व्यक्तियों के संपर्क में आने के बाद फैलाता रहता है। कुछ विशेषज्ञों के मुताबिक निपाह वायरस को खतरनाक माना जाता है क्योंकि इससे संक्रमण होने के बाद 40 से 75 फ़ीसदी मरीजों की मौत हो जाती है। हमने आपको पहले भी बताया था इस निपाह वायरस का अब तक कोई भी इलाज नहीं खोजा गया है।

Nipah Virus के लक्षण क्या क्या है ?

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने भी निपाह वायरस को सबसे खतरनाक वायरस की सूची में भी शामिल कर रखा है। Nipah Virus Infection होने के बाद लक्षण की बात करें तो इसमें मरीजों को तेज बुखार, खांसी, थकान, सांस लेने में तकलीफ, सिर दर्द, मांसपेशियों में दर्द जैसे लक्षण दिखाई देते हैं। कई बार मरीजों के दिमाग में भी सूजन आ जाती है जिसकी वजह से मरीज की मौत हो जाती है।

यह भी पढ़े: NEET UG EXAM 2021 देने से पहले जान ले NTA का ये नया नियम वरना परीक्षा से रह जाएंगे वंचित।