कोरोना की दूसरी लहर के सामने भारतीय अर्थव्यवस्था ने टेके घुटने , 1 करोड़ से ज्यादा लोगों ने गवाई अपनी नौकरी।

1
37
भारतीय अर्थव्यवस्था

जब से कोरोना आया है तबसे पूरी दुनिया इससे तभी का भयानक मंजर देख रही है। दुनिया लगभग हर देश इस कोरोना के दंश को झेल रहे है। हर देश की आर्थिक स्थिति समान्य से बेहद खराब अंको पर है। हर दिन पूरी दुनिया में हजारो – लाखो लोग इस कोरोना के चपेट में आ रहे है और जान गवा रहे है। ऐसे में कोरोना ने भारत को भी बुरे दौर से गुजरने को मजबूर कर दिया है। भारतीय अर्थव्यवस्था ने कोरोना के सामने घुटने टेकने को मजबूर है।

यह भी पढ़े : दो लाख की इनामी नक्सली महिला दंतेवाड़ा मुठभेड़ में हुई ढेर।

1 करोड़ से ज्यादा लोग कि गयी नौकरी

भारतीय अर्थव्यवस्था को कोरोना ने बुरी तरफ से प्रभवित किया है। एक ताजा आकड़े के अनुसार कोरोना की दूसरी लहर ने भारत के 1 करोड़ से ज्यादा लोगो को बेरोजगार कर दिया है। भारत में बेरोजगारों की जनसंख्या पहले से ही ज्यादा थी लेकिन अब कोरोना में 1 करोड़ से ज्यादा लोग अपनी नौकरी गवा कर बेरोजगारों की सूचि में शामिल हो गए है। वही जब कोरोना महामारी शुरू हुई थी तबसे अब तक 97 % परिवारों की आमदनी घटी है।

यह भी पढ़े : 9 करोड़ का यूपी में हुआ खाना घोटाला , उपस्थिति रही जीरो मगर पैसे निकाल अधिकारी बने हीरो।

CMIE के चीफ एग्जिक्यूटिव महेश व्यास ने सोमवार को बताया और और आकड़े सामने रखे। महेश व्यास ने बताया की मई महीने में बेरोजगारी दर 12 % तक पहुंच सकती है जो पिछले महीने अप्रैल में 8 % थी। उन्होंने बताया की इस दौरान करीब 1 करोड़ से ज्यादा लोग अपनी नौकरी गवा दिए है और बेरोजगार हो गए है।

2020 में 23 % थी बेरोजगारी दर

व्यास ने बताया की जो लोग अपनी नौकरी खो दिए है उनको दुबारा नौकरी भी बड़ी दिक्क्तों से मिल रहा है। इनफॉर्मल सेक्टर कुछ हद तक रिकवर हो रहे है लेकिन फॉर्मल और अच्छी गुडवत्ता की नौकरी को दुबारा पाना लोगो के लिए अभी भी मुश्किल है। आपको बताते चले पिछले साल मई 2020 में बेरोजगारों दर 23.5 फीसदी थी और उस समय पुरे देश में लॉकडाउन लगा था। लेकिन दूसरी लहार में राज्यों को ये जिम्मेदारी निभानी थी और जो काम शुरू हुआ था वो भी फिर दुबारा बंद होने लगे थे।

यह भी पढ़े : ऑस्ट्रेलिया ने भारत से मांगी 5 हजार लीटर जहर, ऑस्ट्रेलिया में मंडराने लगा है आर्थिक संकट के बादल।

महेश व्यास ने बताया की देश में अगर बेरोजगारी दर 3 – 4 फीसदी रहती है तो इसको समान्य माना जाएगा। CMIE ने देश के करीब 17 .5 लाख परिवारों का सर्वे किया और इस आकड़े को जारी किया। CMIE ने बताया की हमने इस सर्वे में इन सभी परिवारों से जानकारी ली और इनके आमदनी को पता किया जो कोरोना काल में कई परिवारों की आमदनी पहले की तुलना में काफी कम हो गयी है।

यह भी पढ़े : पूजा ने गोल्ड तो मेरी कॉम समेत तीन ने जीते सिल्वर मेडल।

CMIE के द्वारा जारी किये हुए आकड़े –

कोरोना की दूसरी लहर में बेरोजगारी   : 10 मिलियन से ज्यादा
शहरी बेरोजगारी दर मई के आंकड़े    : 14 .73 %
ग्रामीण बेरोजगारी डॉ मई के आंकड़े   : 10 .63 %
देशव्यापी बेरोजारी दर मई के आंकड़े  : 11 .90 %

 

यह भी पढ़े : PNB बैंक घोटाले के मास्टरमइंड मेहुल चौकसी को भारत लाने कि तैयारी शुरू,डोमिनिका पहुंचा भारतीय विमान।