यूपी में हुआ 9 करोड़ का खाना घोटाला , उपस्थिति रही जीरो मगर पैसे निकाल अधिकारी बने हीरो।

2
136
खाना घोटाला

उत्तर प्रदेश सरकार लगातार कोशिश करती रहती है कि प्रदेश के सभी बच्चों को अच्छी और बेहतर शिक्षा प्रदान की जाये। इसीलिए प्रदेश सरकार ने कस्तूरबा गाँधी आवासीय बालिका विद्यालय संचालित किये गए है। यह विद्यालय पूरी तरह से आवासीय है और इन विद्यालय में बालिकाएं रह कर अध्ययन करती है। इन विद्यालय में 9 करोड़ रूपये का खाना घोटाला का एक मामला सामने आया है। 

यह भी पढ़े : यूपी में कल से क्या होगा अनलॉक और कहा पाबंदी रहेगी जारी ? 20 जिलों को अभी राहत नहीं ,देखे कर्फ्यू के नए दिशा निर्देश।

फरवरी से मार्च के बीच 9 करोड़ रूपये निकाले

इन सभी छात्राओं के भोजन , तेल, साबुन , स्टेशनरी व अन्य सभी जरूरी चीजें शासन स्तर से बजट दिया जाता है। जबसे कोरोना आया तबसे यह विद्यालय बंद है और छात्राएं अभी अपने घर है। इन विद्यालयों में कक्षा छह से आठ तक पढ़ाई होती है। उत्तर प्रदेश के कई जिलों में इन छात्राओ के सुविधा देने के नाम पर 11 फरवरी से 31 मार्च के बीच नौ करोड़ रूपये निकाल लिए गए जबकि सभी छात्राएं अपने घर है।

यह भी पढ़े : पूजा ने गोल्ड तो मेरी कॉम समेत तीन ने जीते सिल्वर मेडल।

खाना घोटाला में शामिल है 18 जिलें

जब प्रेरणा पोर्टल पर विद्यालयों ने जब छात्राओं की उपस्थिति पोर्टल पर दर्शाया गया जिसमे छात्राओं की उपस्थिति शून्य था और तब इस मामले का खुलासा हुआ की जब छात्राएं थी ही नहीं तो 9 करोड़ रूपये किसके लिए निकले गए है। यूपी के 18 जिलों में मिला कर 9 करोड़ रूपये निकले गए है। अब यह खबर शासन को लगी है और शासन ने इन संबधित जिलों के BSA को तलब किया है। जैसे ही शासन का आदेश आया है BSA के कार्यालयों में हड़कंप मच गया है। राज्य परियोजना निदेशक विजय किरण आनंद ने इस मामले पर जिलों के BSA से जवाब मांगा है। 

यह भी पढ़े : किसान आंदोलन : तीनो कृषि कानून रद्द होने के बाद ही किसान अब वापस जायेगे : राकेश टिकैत ने दिया बयान।

किन जिलों के कितने निकाले है पैसे ?

जिन जिलों से पैसे निकाले गए उनकी बात करें तो उनमें सुल्तानपुर में 44 लाख, रायबरेली में 63 लाख, प्रतापगढ़ में 76 लाख, संतकबीरनगर में 38 लाख, बरेली-84 लाख, बिजनौर में 74 लाख, देवरिया में 68 लाख, फतेहपुर में 31 लाख, गाजियाबाद में 18 लाख, गोंडा में 96 लाख,, , श्रावस्ती में 26 लाख, सोनभद्र में 26 लाख, उन्नाव में 47 लाख, वाराणसी में 37 लाख रुपए, कांशीराम नगर में 31 लाख, मऊ में 23 लाख, मेरठ में 26 लाख, मुरादाबाद में 39 लाख, निकाले गए हैं।

यह भी पढ़े : कोरोना से अनाथ हुए बच्चों को मोदी सरकार कि सौगात : हेल्थ बिमा और मुफ्त शिक्षा देगी केंद्र सरकार।