Maharashtra: Nashik में 15 साल से बंद दुकान में मिले कटे हुए मानव शरीर के अंग, पुलिस ने बरामद किए 8 कान और आँख।

0
274
Nashik

नासिक (Nashik) के हरि सोसायटी से चौकाने वाली घटना सामने आई है। यह एक रिहायशी इलाका है। यहां पर 15 साल से बंद एक दुकान में से शरीर के कटे हुए हिस्से बरामद हुए हैं।

जानिए Nashik का  पूरा मामला

रविवार शाम को दुकान के अंदर से तेज़ बदबू आ रही थी। आस-पास वालों ने पुलिस को शिकायत की। देर रात पुलिस (Nashik) ने दुकान में छापा मारा तो वहां से 8 कान, 1 सर और 2 आंखें बरामद हुई। गौर करने वाली बात तो यह है कि यह सोसायटी मुंबई नाका पुलिस स्टेशन से कुछ ही दूरी पर है।

यह भी पढ़े: TATA IPL 2022 : 14 साल बाद CSK ने बदला कप्तान, MS Dhoni के कप्तानी छोड़ने के पीछे की 5 मुख्य वजह।

पुलिस ने सभी अंगों को ज़ब्त कर फॉरेंसिक जांच के लिए भेज दिया है। मामले की जांच कर रही नासिक (Nashik) की डीसीपी पूर्णिमा चौगुले ने बताया कि ये दुकान ईएनटी डॉक्टर किरण शिंदे के नाम पर रजिस्टर्ड है। इस दुकान को उन्होंने 15 साल पहले कुछ मेडिकल स्टूडेंट्स को किराए पर दे दी थी। उसके बाद से चाभी खो जाने की वजह से दुकान बंद थी।

Nashik

केमिकल में डाल कर रखे गए थे अंग

पुलिस को जितने भी अंग बरामद हुए हैं वह कुछ डिब्बों में एक केमिकल में डाल कर रखे हुए थे। डीसीपी चौगुले के मुताबिक, इस बात की संभावना है कि यह शरीर के अंग मेडिकल रिसर्च के लिए लाए गए हो सकते हैं। क्योंकि जिस तरह से कान काटे गए हैं, उन्हें देख के ऐसा ही लग रहा है। इसके अलावा जिस तरह इन अंगों को केमिकल में डालकर रखा गया है, वो भी इसी बात की तरफ इशारा कर रही हैं। बहरहाल, पुलिस सभी पहलुओं से जांच में जुटी है।

यह भी पढ़े: America : पुतिन की हार्ट अटैक से मौत, डॉक्टरों की तमाम कोशिशों के बावजूद नहीं बच सकी जान।

डीसीपी चौगुले ने सोमवार को कहा कि पुलिस (Nashik) जल्द ही इस मामले को सुलझा लेगी। फिलहाल, डॉक्टर किरण शिंदे से संपर्क नहीं हो पा रहा है। लेकिन यह जानकारी प्राप्त हुई है कि डॉक्टर के 2 बच्चे है जो शहर में रहते हैं। इनमें से एक डेंटिस्ट है और दूसरा कान, नाक और गले का विशेषज्ञ है। उनके बयान के बाद ही इस मामले का खुलासा संभव है।

पुलिस को ज़्यादा संदेह इसी बात का है कि यह अंग या तो उनके बच्चे यहां लाए हैं या फिर उनके दोस्त। डॉक्टर के दोनों बच्चों को और दोस्तों को आज पुलिस ने पूछताछ के लिए समन भेज दिया है। स्थानीय लोगों ने भी यह पुष्टि की है कि यहां मेडिकल स्टूडेंट्स रहते थे।

यह भी पढ़े: Yogi 2.0 : Yogi Adityanath की स्पेशल 18 में एक भी मुस्लिम नहीं, मंत्रिमंडल में कई नए चेहरे तो कई के कटे नाम।

लेखक – कशिश श्रीवास्तव