रावण (Arvind Trivedi) के निधन की खबर सुन दुखी हुए राम, बोले आज सबसे अच्छा मित्र चला गया, रावण के साथ बिताये अच्छे पलों को याद कर भावुक हुए राम।

टीवी की दुनिया में सबसे चर्चित सीरियल की बात करें तो वह रामानंद सागर द्वारा बनाई रामायण है। इस रामायण के किरदारों ने लोगों के दिलों में ऐसी छाप छोड़ी कि लोग उन्हें वास्तविक राम और रावण (Arvind Trivedi) के रूप में पहचानने लगे थे। आज रामायण सीरियल के सबसे चर्चित किरदार रावण का निधन हो गया है। रावण के किरदार से मशहूर हुए अभिनेता अरविंद त्रिवेदी (Arvind Trivedi) का निधन हुआ तो उनके साथी कलाकार जिन्होंने राम का किरदार निभाया था अरुण गोविल वे दुखी है।

यह भी पढ़े: UP Free Laptop Yojana 2021 की देखे सूची, क्या आप भी इस योजना के लिए है पात्र? स्नातक और परास्नातक के छात्रों के लिए बड़ा अपडेट।

Arvind Trivedi और अरुण गोविल ने पर्दे पर निभाया था विरोधी का किरदार लेकिन असल जिंदगी में थे सच्चे दोस्त

पर्दे पर यह दोनों भले ही एक दूसरे के किरदार के विरोधी थे लेकिन असल जिंदगी में यह दोनों बेहतरीन मित्र के रुप में थे। अरविंद त्रिवेदी (Arvind Trivedi) के निधन से दुखी हुए राम का किरदार निभाने वाले अरुण गोविल ने दुख साझा करते हुए कहा कि सबसे अच्छा दोस्त चला गया। अरुण गोविल ने कहा कि मेरी उनसे 10 दिन पहले ही फोन पर बात हुई थी और आज सुबह उनके जाने की खबर मिलने से मैं दुखी हो गया हूँ। उनकी तबीयत ठीक नहीं थी और मैंने हाल-चाल भी उनका जाना था वह थोड़ा ही बोल पा रहे थे।

Arvind Trivedi

Arvind Trivedi जितना सच्चा और पॉजिटिव इंसान कोई और नहीं हो सकता

उन्होंने पुराने दिनों को याद करते हुए कहा कि उन्हें शायद अपने अंतिम क्षणों का आभास हो चुका था और आज ये दुख की खबर आ गई। अरविंद त्रिवेदी (Arvind Trivedi) के बारे में बताया कि वे रावण के किरदार में रहे लेकिन जीवन हमेशा सादा और सच्चा तथा धार्मिक ही रहा था। अरविंद त्रिवेदी (Arvind Trivedi) जितना अच्छा और पॉजिटिव इंसान कोई और हो ही नहीं सकता है। और उनके साथ काम के अनुभव को साझा करते हुए कहा कि उनके साथ काम करने का अनुभव ग्रेट रहा है। अरविंद त्रिवेदी के बारे में उन्होंने कहा कि वह इतने विद्वान और धार्मिक थे किस बात का अंदाजा लगाना मुश्किल था।

यह भी पढ़े: High blood pressure (hypertension) की वजह से बढ़ रहा है Dementia का खतरा, जाने क्या है Dementia? कैसे करे बचाव ?

जब भी मुझसे Arvind Trivedi मिलते मुझे प्रभु शब्द से ही सम्बोधन करते थे – अरुण गोविल

हम शूटिंग पर हर दिन होते या बाहर किसी आयोजन में भी मिलते थे तो वह हमेशा मुझे प्रभु कह कर बुलाते थे। जब उस दिन मेरी उनसे फोन पर बात हुई तब उस समय भी उन्होंने मुझे प्रभु शब्द से ही संबोधन किया था। वे कभी भी मेरे से मिलते तो सबसे पहले हाथ जोड़ते और मेरे पैर छूते थे। उन्होंने शूटिंग के समय की यादों को याद करते हुए बताया सेट पर शूटिंग से पहले भी मेरे पैर छूते उसके बाद शूटिंग शुरू हुआ करता था।

जीजा का वध आप करेंगे इस बात को लेकर हमेशा होती थी हसी मजाक

अरविंद त्रिवेदी से जुड़े रिश्ते को साझा करते हुए अरुण गोविल ने कहा कि हमारी रामायण के सेट पर हमेशा मुलाकात हुआ करती थी। धीरे धीरे पर बातचीत हुई तो मैंने उनसे 1 दिन बताया कि मैं मेरठ का रहने वाला हूं। इसपर पर अरविंद त्रिवेदी ने जवाब देते हुए कहा कि अच्छा तो आप तो मेरी ससुराल से हैं और इस हिसाब से मैं आपका जीजा हुआ। धर्म और ग्रंथों के हिसाब से मेरठ के इतिहास को देखने पर पता चलता है कि रावण की पत्नी मंदोदरी मेरठ से थी। हम इस बात पर हमेशा हंसी मजाक किया करते थे कि ग्रंथों के हिसाब से आपका जीजा हुआ और अब आप सीरियल में अपने जीजा का वध करेंगे।

यह भी पढ़े: PM Digital Health Mission: देशवाशियों को पीएम मोदी ने दिया बड़ा तोहफा, जाने ये डिजिटल हेल्थ कार्ड क्या है? इन आसान 8 स्टेप्स से बनाये अपना हेल्थ कार्ड।

Arvind Trivedi रावण के किरदार में अमर हो गए है – अरुण गोविल

अरविंद त्रिवेदी से जुड़े एक और किससे को याद करते हुए अरुण गोविल ने बताया कि भारतीय विद्या भवन में उन्होंने एक डॉक्यूमेंट्री लांच प्रोग्राम किया था। इस आयोजन के शुभारंभ के लिए अरविंद त्रिवेदी ने मुझे आमंत्रित किया था। उन्होंने कहा कि मैं यह शुभ काम अरुण जी से ही करवाना चाहता हूं। अभी कोरोना के कारण मैं उनसे मुलाकात तो नहीं कर पाया था लेकिन फोन पर उनसे बात हुआ करती थी। अरुण गोविल ने उन्हें याद करते हुए और श्रद्धांजलि देते हुए कहा कि वह रावण के किरदार में अमर हो गए हैं।

यह भी पढ़े: Nobel Prize 2021 Winner : David Julius और Ardem Patapoutian को फिजियोलॉजी / मेडिसिन में संयुक्त रूप से मिला नोबेल पुरस्कार, जाने कौन है ये दोनों वैज्ञानिक और इन्हे किस खोज के लिए मिला नोबेल पुरस्कार।

3 thoughts on “रावण (Arvind Trivedi) के निधन की खबर सुन दुखी हुए राम, बोले आज सबसे अच्छा मित्र चला गया, रावण के साथ बिताये अच्छे पलों को याद कर भावुक हुए राम।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *