PM Digital Health Mission: देशवाशियों को पीएम मोदी ने दिया बड़ा तोहफा, जाने ये डिजिटल हेल्थ कार्ड क्या है? इन आसान 8 स्टेप्स से बनाये अपना हेल्थ कार्ड।

4
38
PM Digital Health Mission

आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने प्रधानमंत्री डिजिटल हेल्थ मिशन (PM Digital Health Mission) की शुरुआत की। इस योजना का शुभारंभ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए किया। प्रधानमंत्री डिजिटल हेल्थ मिशन (PM Digital Health Mission) योजना का मुख्य उद्देश्य है कि देश भर में स्वास्थ्य सेवा को भी डिजिटल बना दिया जाए।

यह भी पढ़े: REET EXAM 2021 : 6 लाख रूपये की चप्पल के जरिये नक़ल करने की कोशिश, पकडे गए नकलची, जाने एक चप्पल की कीमत 6 लाख रूपये क्यों ?

PM Digital Health Mission एक पुरानी योजना  है

इस योजना के अंतर्गत सभी भारतीय नागरिकों की एक यूनिक आईडी बनेगी जिससे जरिये एक देशव्यापी डिजिटल हेल्थ इकोसिस्टम तैयार होगा। आपको बता दें प्रधानमंत्री डिजिटल हेल्थ मिशन (PM Digital Health Mission) योजना पुरानी है जिसका नाम नेशनल डिजिटल हेल्थ मिशन था।

यह भी पढ़े: PM MODI UNGA SPEECH की 8 मुख्य बातें, जाने आतंकवाद, अफ़ग़ानिस्तान, वैक्सीन, पर क्या बोले पीएम मोदी ?

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 15 अगस्त 2020 को इसे अंडमान निकोबार, चंडीगढ़, दादर नगर हवेली, दमन दीप में आरंभ किया था, लेकिन उसको पूरे देश में लागू करने का फैसला किया गया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस डिजिटल योजना का शुभारंभ करते हुए बताया कि इस अभियान से हमारे देश के नागरिकों की ताकत बढ़ जाएगी। हमारे देश के पास 130 करोड़ आधार नंबर, 118 करोड़ मोबाइल यूजर, 80 करोड़ इंटरनेट यूजर और 43 करोड़ जनधन बैंक खाते हैं, ऐसा दुनिया में कहीं नहीं है।

वैक्सीन के लिए COWIN एप का किया जिक्र

मोदी ने कहा कि सबकुछ डिजिटल होता चला गया है यहां तक कि राशन से लेकर प्रशासन तक सब डिजिटल हो गया है। मोदी ने आरोग्य सेतु एप की मदद से कोरोना को फैलने से रोकने में मदद मिली है। देश में सभी को मुफ्त वैक्सीन दी जा रही है। अब तक देश में 90 करोड़ से ज्यादा लोगों को वैक्सीन लग चुकी है। इसमें सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण योगदान COWIN का रहा है।

यह भी पढ़े: Twitter पर ब्लु टिक मिलना हुआ आसान जानिए कैसे पाएं ब्लू टिक

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बताया कि आयुष्मान योजना के तहत अब तक देश में करीब 2 से ज्यादा लोग मुफ्त इलाज करा चुके हैं। उन्होंने कहा कि पहले कई गरीब ऐसे थे जो अस्पताल जाने से बचते थे लेकिन आयुष्मान भारत योजना ने उनका डर दूर कर दिया है।

आइए जानते हैं PM Digital Health Mission कैसे और कहां बनेगा?

इस PM Digital Health Mission कार्ड को बनाने के लिए आपको PHR एप के जरिए सबसे पहले रजिस्ट्रेशन करना होगा। इसके रजिस्ट्रेशन के लिए आपको आधार कार्ड और मोबाइल नंबर की जरूरत पड़ेगी। रजिस्ट्रेशन के बाद 14 डिजिट की यूनिक आईडी प्राप्त होगी। इस कार्ड को आप किसी सरकारी निजी अस्पताल या कम्युनिटी हेल्थ सेंटर पर जाकर बनवा सकते हैं। प्राइमरी हेल्थ सेंटर, कॉमन सर्विस सेंटर पर भी सुविधा उपलब्ध होगी।

PM Digital Health Mission

कार्ड (PM Digital Health Mission) बनने के बाद सबसे बड़ा फायदा यह होगा कि आपकी पूरी मेडिकल हिस्ट्री डिजिटल फॉर्मेट में अपडेट हो जाएगी। आप किसी भी दूसरे शहरों में अस्पतालों में इस यूनिक आईडी के जरिए अपने डाक्यूमेंट्स देख पाएंगे और इससे डॉक्टरों को इलाज करने में बेहद आसानी होगी। कार्ड बनवाने के बाद पिछली सभी रिपोर्ट स्कैन करके आपको अपलोड करनी होगी। यूनिक नंबर के जरिए रिपोर्ट कार्ड से लिंक हो जाएगा और अस्पताल में NBHM के कर्मी आपकी मदद करने के लिए मौजूद रहेंगे।

PM Digital Health Mission कार्ड का फायदा क्या है?

इस कार्ड (PM Digital Health Mission) में सबसे बड़ा फायदा यह होगा कि मेडिकल से जुड़े सभी रिकार्ड इस कार्ड में मौजूद होंगे। यहां तक कि पिछली बार आप किस दवा का इस्तेमाल किये थे और क्या असर हुआ था उसका भी डाटा इस कार्ड में मौजूद होगा। अगर दवा बदली गई तो क्यों इसको इलाज के दौरान डॉक्टर को समझने में सहूलियत होगी।

यह कार्ड सबको बनवाना जरुरी है?

कुछ लोगों के दिमाग में यह सवाल होगा कि क्या यह कार्ड (PM Digital Health Mission) बनवाना सभी के लिए अनिवार्य होगा? लेकिन इसका जवाब होगा कि नहीं यह कार्ड सभी के लिए अनिवार्य नहीं है अगर आपकी इच्छा है तो आप बनवा सकते हैं या नहीं बनवाए। इस कार्ड को बनवाने के लिए सिर्फ आपको दो डॉक्यूमेंट की जरूरत होगी। सबसे पहले आपको अपने आधार कार्ड और मोबाइल नंबर की जरूरत होगी। इसके बाद आपका नाम, जन्मतिथि, लिंग और पता जैसी सामान्य जानकारियां देनी होंगी।

कही भी ऑफलाइन डाक्यूमेंट्स जमा करने की नहीं होगी जरूरत

आपको कोई भी डाक्यूमेंट्स ऑफलाइन कहीं भी जमा करने की आवश्यकता नहीं है। यह पूरा प्रोसेस ऑनलाइन होगा और बच्चों के लिए भी सेम प्रोसेस से आईडी कार्ड बनाए जाएंगे। अगर आप अपना डाटा ट्रांसफर करना चाहते हैं तो इसके लिए आपसे ओटीपी मांगा जाएगा अगर आप मंजूरी नहीं देते तो डाटा नहीं देख सकता है।

अगर आप अपना कार्ड बनवाना चाहते है तो आपको कुछ आसान से स्टेप्स फॉलो करने होंगे।

1. सबसे पहले आपको इस ndhm.gov.in वेबसाइट पर जाना होगा।

2. ये साइट खुलते ही आपको एक CREATE HEALTH ID का विकल्प मिलेगा।

3. इस विकल्प का चयन करते ही आपके कार्ड बनने की प्रक्रिया शुरू हो जायेगी।

4. इसके बाद आपको अपना आधार कार्ड का नंबर देना होगा। आप चाहे तो मोबाइल नंबर से भी प्रक्रिया शुरू कर सकते है।

5. इसके बाद आपको मोबाइल नंबर पर एक OTP मिलेगा जिससे वेरिफाई करना होगा।

6. इसके बाद अपने प्रोफाइल के लिए एक फोटो देनी होगी।

7. इसके बाद आपसे आपकी जन्मतिथि, और पता मांगा जाएगा जिसको भरने के बाद आपके सामने आपका कार्ड बन कर आ जाएगा।

8. इस कार्ड में आपकी जानकारिओं के साथ – साथ फोटो, क्यूआर कोड होगा। ये कार्ड भविष्य में बेहद काम आएगा। 

यह भी पढ़े: COVID 19 IN CHILDREN : बच्चों में कोरोना को लेकर WHO की आई चौकाने वाली रिपोर्ट, बच्चों में खतरा कम या ज्यादा? WHO की चीफ साइंटिस्ट ने क्या बताया ?