राजनीति : वैक्सीन से गिरे तस्वीर पर अटके, केंद्र और बंगाल में फिर साख की लड़ाई !

0
68
mamta banerjee and pm modi

वैक्सीन सर्टिफिकेट पर फोटो लगाने को लेकर तकरार

अपने देश में दो चीजें बड़ी खास तौर पर देखने को मिल जाती हैं। पहला है कि भारतीय हर मुश्किल परिस्थिति में मुस्कुराने की वजह खोज ही लेते हैं। और दूसरी हर मुश्किल परिस्थिति में देश के नेता राजनीति करने का कोई मौका नहीं छोड़ते। मौका न भी हो तो मौका खुद बना लेते हैं। ये बात में सिर्फ हवा हवाई है। देश में टीके को लेकर के मारामारी है। लेकिन बंगाल और केंद्र की सरकार में वैक्सीन सर्टिफिकेट पर फोटो को लेकर के मारामारी चल रही है। यह सुनने में बड़ा अजीब लगेगा।

यह भी पढ़े : उत्तर प्रदेश रोजगार के मामले में दिल्ली, राजस्थान ,बंगाल से आगे।

वैक्सीन सर्टिफिकेट पर किसकी आती है फोटो?

वैक्सीन के लगने के बाद मिलने वाले प्रमाण पत्र पर पीएम मोदी की तस्वीर की जगह बंगाल में सीएम ममता की तस्वीर लगेगी। टीएमसी के इस फैसले को लेकर के भारतीय जनता पार्टी ने कड़ी आपत्ति जताई है। कोरोना का टीका लगाने के बाद मिलने वाले सर्टिफिकेट पर प्रधानमंत्री मोदी की तस्वीर आती है। लेकिन बंगाल में मिलने वाले सर्टिफिकेट पर अब पीएम मोदी की तस्वीर के जगह पर सीएम ममता बनर्जी की तस्वीर होगी।

यह भी पढ़े : कोरोना के संक्रमण से अब जानवर भी नहीं रहे सुरक्षित : शिवा ,नीला की मौत !

वैक्सीन सर्टिफिकेट पर ममता कि तस्वीर

18 से 44 साल के लोगों को लगने वाले वैक्सीन के बाद सभी सर्टिफिकेट पर मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की तस्वीर लगाई जाएगी। आप सभी को पता है केंद्र सरकार और बंगाल की सरकार में कई मुद्दों को लेकर के हमेशा से अनबन रही है। यह तस्वीर का मुद्दा राज्य और केंद्र सरकार के बीच दूरियों को और बढ़ा सकता है। इससे पहले भी टीएमसी पीएम मोदी की तस्वीर को लेकर आपत्ति जता चुकी है और आलोचना भी करती आई है।

यह भी पढ़े : अब समंदर में भी मेड इन इंडिया की गूंज ।

वैक्सीन सर्टिफिकेट पर लगती थी मोदी कि फोटो

आपको बता दें जब बंगाल में चुनाव था तब भी वैक्सीनेशन जारी था ।उस समय भी सर्टिफिकेट पर पीएम मोदी की तस्वीर आती थी ।जिसको लेकर के टीएमसी ने चुनाव आयोग में शिकायत की और कहा कि सर्टिफिकेट पर पीएम मोदी की तस्वीर आचार संहिता के नियमों का उल्लंघन है। पीएम मोदी की तस्वीर हटा कर अपनी तस्वीर लगाने को लेकर भाजपा के वरिष्ठ नेता और राज्य प्रवक्ता समिक भट्टाचार्य ने नाराजगी जताई है।

यह भी पढ़े : सफदरगंज अस्पताल में नर्सों ने शुरू किया आंदोलन।

भट्टाचार्य का कहना है कि टीएमसी पीएम पद की गरिमा को स्वीकार नहीं कर रही है। टीएमसी एक अलग निर्भर देश की तरह व्यवहार कर रही है और यह मानने को तैयार नहीं है कि ये लोग जहां रहते हैं वह भारत का ही एक हिस्सा है। वही टीएमसी के सौगत राय ने कहा ये पहले भाजपा वालों ने किया। सौगत राय ने कहा कि अगर भाजपा वाले ऐसा कर सकते है तो हम भी कर सकते है। अगर वे ऐसे नही करते तो हम भी ऐसा नहीं करते।

यह भी पढ़े : पंजाब की राजनीति में कांग्रेस की स्थिति हुई डमाडोल।