Post Covid Complications : कोरोना से ठीक होने के एक साल बाद भी लोग झेल रहे है दिक्क़ते, कोरोना से ठीक होने 35 हफ्ते बाद भी दिख रहे लक्षण, अमेरिका की एक रिपोर्ट ने किया दावा।

पिछले कई करीब 2 सालों से कोरोना पूरी दुनिया में तबाही मचा रहा है। अब तक मौत का आंकड़ा करोड़ों में पहुंच चुका है। लेकिन कोरोना से ठीक होने वाले लोगों की तादाद भी कुछ कम नहीं है। कोरोना से भी लोग ठीक तो हो रहे हैं लेकिन इसके बाद भी कई तरह की बीमारियों (Post Covid Complications) से जूझ रहे हैं। कोविड से ठीक होने के बाद भी कई तरह के खतरे बनने लगे हैं।

यह भी पढ़े: Nobel Prize 2021: चिकित्सा, रसायन और भौतिक विज्ञान के क्षेत्र में किसको और क्यों मिला है नोबेल पुरस्कार? इस पुरस्कार में दी जाने वाली 8.5 करोड़ की राशि कहाँ से आती है? नोबेल पुरस्कार का इतिहास क्या है?

Post Covid Complications को लेकर अमेरिका में हुआ है शोध

कोरोना से ठीक होने के 1 साल बाद भी मरीजों में बीमारी के कई तरह के साइड इफेक्ट (Post Covid Complications) पाए जा रहे हैं। अमेरिकी शोधकर्ताओं की एक रिसर्च आई है जो बेहद अलर्ट करने वाली है। अमेरिकी शोधकर्ताओं ने अपनी इस नई रिसर्च में बताया कि जो कोरोना के मरीज अस्पताल में भर्ती नहीं हुए थे उनके अंदर साल भर के बाद भी दिल से संबंधित खतरे (Post Covid Complications) कम नहीं हुए हैं। नई रिपोर्ट ने बताया जो मरीज अस्पताल में भर्ती नहीं हुए उनमें 39 फ़ीसदी तक हार्ट फेल और 24 फ़ीसदी तक स्ट्रोक होने का रिस्क अभी भी है।

यह भी पढ़े: Electricity Crisis In India : देश में कोयले कमी कर सकती है आपके घर की बत्ती गुल, जाने 6 मुख्य कारण जिसके वजह से देश में हो रही है कोयले की कमी, जाने कितने दिन का और बचा है स्टॉक।

Post Covid Complications किन मरीजों में बन रहा है ज्यादा खतरा ?

शोधकर्ताओं ने बताया कि 119 पल्मोनरी एम्बोलिज्म फ़ीसदी और 270 फ़ीसदी तक दिल में सूजन होने की आशंका कोरोना से ठीक होने की 1 साल बाद (Post Covid Complications) भी बनी हुई है। शोधकर्ताओं ने बताया कि ये लक्षण उन मरीजों में दिख रहे हैं जिनमे कोरोना के ज्यादा गंभीर मामले नहीं थे और वे अस्पताल में भर्ती नहीं हुए थे। शोधकर्ताओं ने आगे बताया कि जो मरीज अस्पताल में भर्ती हो चुके हैं उनमें भी इन बीमारियों का खतरा बना रहता है लेकिन काम लक्षण वाले मरीजों में भी खतरा कम नहीं है। इस शोध को अमेरिका के वाशिंगटन यूनिवर्सिटी और हेल्थकेयर ने मिलकर किया है।

Post Covid Complications

महीनो बाद भी दिख रहे है Post Covid Complications

कोरोना से ठीक होने के बाद भी मरीजों में कई तरह के लक्षण मिल रहे हैं जिसको हम लॉन्ग कोविड भी कहते हैं। वैसे तो मेडिकल में इसका कोई परिभाषा नहीं है लेकिन अगर आसान शब्दों में कहें तो इसका मतलब यह होता है कि शरीर से वायरस जाने के बाद भी कुछ न कुछ लक्षण बने रहते हैं। लॉन्ग कोविड का मतलब क्या होता है कि कोरोना मरीज की रिपोर्ट नेगेटिव तो आ गई है लेकिन उन्हें महीनों बाद भी समस्याएं दिखती रहती है। कोरोना से ठीक होने के बाद भी लंबे वक्त तक लक्षण बने रहना लॉन्ग कोविड कहलाता है।

Post Covid Complications

कोरोना से ठीक होने के 35 सप्ताह तक दिख सकते है Post Covid Complications

नेचर जर्नल में छपी एक रिसर्च के मुताबिक रिकवरी के बाद लंबे समय तक शरीर पर वायरस का असर क्यों दिखता है इसका पता अब तक नहीं चल पाया है। बहुत से मरीजों पर इसका असर बुरा हो रहा है। यूनिवर्सिटी कॉलेज लंदन की न्यूरोसाइंटिस्ट एथेना अक्रमी कहती है की कोरोना से ठीक से मरीजों में आगे चलकर किस तरह के लक्षण दिखाई देंगे इसकी जानकारी बहुत कम मिल पा रही है।

यह भी पढ़े: UNESCO State Education Report 2021 ने भारत के शिक्षा व्यवस्था की खोली पोल, सिर्फ 19% स्कूल ऐसे जहां इंटरनेट की है सुविधा, जाने इस रिपोर्ट में क्या हुआ खुलासा।

इसके पीछे की वजह बताते हुए उन्होंने कहा कि जैसे-जैसे समय गुजर रहा है लक्षण दिखने शुरू हो जाते हैं। इस लॉन्ग कोविड के लक्षण कितने गंभीर होंगे और इसका दैनिक जीवन पर क्या असर होगा इसका पता भी बाद में ही चलता है। अब तक जितने भी रिसर्च हुए हैं उसके अनुसार यह कहा जा रहा है कि लॉन्ग कोविड के मामले में लक्षण 35 सप्ताह के बाद तक देख सकता है।

यह भी पढ़े:  UP Free Laptop Yojana 2021 से जुडी बड़ी अपडेट, बहुत जल्द शुरू होंगे इसके लिए आवेदन की प्रक्रिया, जाने कैसे होगा आवेदन।

4 thoughts on “Post Covid Complications : कोरोना से ठीक होने के एक साल बाद भी लोग झेल रहे है दिक्क़ते, कोरोना से ठीक होने 35 हफ्ते बाद भी दिख रहे लक्षण, अमेरिका की एक रिपोर्ट ने किया दावा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *