खुशनुमा जिंदगी का दर्दनाक अंत, कानपुर में हुआ भीषण हादसा, 17 की मौत।

0
36
कानपुर

कानपुर NH – 24 पर हुआ भीषड़ हादसा

उत्तर प्रदेश के कानपुर में मंगलवार की देर रात एनएच 24 पर एक बड़ा हादसा हो गया। किसान नगर में हाईवे पर एक एसी बस और टेंपो में भिड़ंत हो गई जिसमें कुल 17 लोगों की मौत हुई। खबर के अनुसार मरने वालों में 11 की उम्र करीब 30 साल से भी कम थी। हादसे में करीब 15 लोग घायल हैं जिनमें से 10 की हालत बेहद गंभीर है।

यह भी पढ़े: देश के नागरिकों को पीएम मोदी का बड़ा तोहफा, सबको मिलेगी अब मुफ्त में वैक्सीन।

कानपुर हादसे में मरे लोगो को मिलेंगे 2 लाख रूपये

इस हादसे के बाद पीएम मोदी, सीएम योगी आदित्यनाथ, गृह मंत्री अमित शाह समेत देश के कई दिग्गज नेताओं ने अपने शोक संवेदना व्यक्त की है। मृतकों के परिजनों को प्रधानमंत्री मोदी ने PMNR फंड से ₹2लाख और घायलों को 50-50 हजार की सहायता राशि देने की घोषणा की । उत्तर प्रदेश सरकार की तरफ से भी मृतकों के परिजनों को ₹2लाख का मुआवजा दिया जाएगा।

यह भी पढ़े: बीजेपी की वैक्सीन वाले बयान से यूं पलट गए अखिलेश कुमार यादव।

लोडर के जरिये अस्पताल पहुंचे घायल मरीज

इस हादसे के बाद तुरंत मौके पर पुलिस पहुंचती है। एंबुलेंस बुलाई जाती है। लेकिन घायलों और मृतकों की संख्या इतनी ज्यादा थी कि एंबुलेंस भी कम पड़ गई। किसी तरह से आनन-फानन में रेस्क्यू की टीम ने लोडर के जरिए घायलों को कानपुर के हैलट अस्पताल पहुंचाया। बताया जा रहा है कि हादसा उस वक्त हुआ जब हाईवे पर डीसीएम का ड्राइवर बस को ओवरटेक कर रहा था इसी दौरान बस और डीसीएम के बीच में टेंपो फस गया।

यह भी पढ़े: भारतीय क्रिकेट टीम के हेड कोच बने राहुल द्रविड़ , श्रीलंका टूर में होंगे टीम इंडिया के साथ।

बताया जा रहा है कि हादसे में जिन लोगों की मौत हुई वह सभी टैंपू में सवार थे। लोगों ने बताया कि यह सभी लोग एक बिस्किट फैक्ट्री में काम करते थे और नाइट शिफ्ट के लिए फैक्ट्री जा रहे थे। जानकारी के अनुसार जय अंबे ट्रैवल्स की स्लीपर बस कानपुर से सूरत की तरफ जा रही थी। इस बस में कुल 115 लोग सवार थे।

यह भी पढ़े: विश्व पर्यावरण दिवस के अवसर पर लगा दिया भांग का पौधा, आबकारी विभाग ने तलाश शुरू की ।

कानपुर से 15 किलोमीटर दूरी के बाद ही या हादसा हो गया। खबर के अनुसार टैंपू में सवार सभी लोगों की मौत मौत होने की सूचना है। इसके अलावा बस में कई सवार लोग की भी मौत होने की खबर है। जैसे ही इस हादसे की सूचना अस्पताल को मिली। हैलट अस्पताल प्रशासन की तरफ से अलर्ट जारी कर दिया गया और सभी मेडिकल स्टाफ और डॉक्टर्स को घर से पुनः अस्पताल बुला लिया गया। इस मंजर को देखने के बाद हर व्यक्ति सहम गया है।

यह भी पढ़े:  वैक्सीन पॉलिसी पर कांग्रेस का यू टर्न।